व्याख्याता के शरीर से चिपके चम्मच, पिन व सिक्के

चिकित्सक बोले यह वैक्सीन का प्रभाव नहीं

By: Rajendra Jain

Published: 13 Jun 2021, 02:13 PM IST

दौसा. लालसोट शहर की न्यू कॉलोनी निवासी व अशोक शर्मा राउमावि में कार्यरत एक व्याख्याता के शरीर से स्टील व लोहे से बने सामान चिपकने का मामला सामने आने के बाद क्षेत्र में चर्चा का विषय बन गया। मामले को लेकर स्वयं व्याख्याता ने एक वीडियों बनाकर सोशल मीडिया पर भी पोस्ट किया है। मोहन उपाध्याय ने बताया कि वैक्सीनेशन के बाद शरीर से स्टील व लोहे के सामान चिपकने की खबरे सोशल मीडिया पर सामने आने के बाद जब उन्होंने भी शरीर पर कुछ लोहे एवं स्टील के वस्तुएं जब चिपकाई तो ये सभी वस्तुएं उनके शरीर पर चिपकी जा रही थी। सबसे पहले पिन, उसके बाद सिक्के व बाद में स्टील की चम्मच चिपकाई तो वह भी चिपक गई।
व्याख्याता ने बताया कि उन्हें कोरोना वैक्सीन लगवाए एक माह से अधिक समय पूरा हो चुका है और यह सब देख कर मुझे बड़ा भी आश्चर्य हुआ और वे पूरी तरह स्वस्थ्य है। शरीर में यह परिवर्तन किन कारणों से हो रहे हैं इसका कोई पता नहीं है।
दूसरी ओर मामले को लेकर ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी का कहना है कि यह वैैक्सीन का प्रभाव नहीं है। शरीर पर स्टील व लोहे के सामान चिपकना रिसर्च का विषय है। उच्च चिकित्सा संस्थान पर जाकर इस बारे में चिकित्सीय सलाह लें।

टक्कर मारने के बाद कार चालक पर अपहरण के प्रयास का आरोप
लालसोट. डिडवाना आद्यौगिक क्षेत्र के पास एक बाइक सवार को कार द्वारा टक्कर मारने के बाद अपहरण के प्रयास का मामला सामने आया है, वहीं दूसरी लालसोट पुलिस अपहरण के प्रयास की घटना को खारिज कर रही है। डिगो गांव निवासी गिरवर सिंह ने बताया कि उसका पुत्र तेजसिंह बड़वा रात्रि को डिडवाना से गांव की ओर आ रहा था। इसी दौरान सामने से आ रही एक कार के चालक ने गलत इरादे से बाइक को टक्कर मार दी और काफी दूर तक घसीटते हुए ले गया। टक्कर के बाद जब कार नहीं चल सकी तो उसे कार के नीचे ही दबा छोड़कर भागने लगे। उसी समय दो राहगीर भी आ गये और कहासुनी करके घायल को लालसोट अस्पताल में छोडऩे के लिए कहा तब इन्होंने अस्पताल में छोडऩे की हामी भर ली। इसके बाद कार चालक उसके पुत्र को अस्पताल लाने के बजाय अपहरण कर घायल पुत्र को मारने की नीयत से दौसा की ओर ले गया। इस दौरान सलेमपुरा गांव के पास कार नाकाबंदी के पास पहुंचने वाली थी कि तेज सिंह ने चलती कार की फाटक खोल कर चिल्लाने लगा। इसके बाद रामगढ़ पचवारा पुलिस ने उन्हें सूचना दी और अस्पताल में भर्ती कराया। लालसोट थाने के एएसआई लक्ष्मण सिंह ने बताया कि अपहरण के प्रयास का कोई मामला नहीं है। कार चालक बारा से आ रहा था, टक्कर के बाद कार चालक ही घायल बाइक सवार को इलाज के लिए दौसा ले जा रहा था। उसे लालसोट की लोकेेशन के बारे में जानकारी नहीं थी।

Rajendra Jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned