स्टोन कलस्टर से शिल्पकारों को मुहैया होगा रोजगार - सक्सेना

स्टोन कलस्टर से शिल्पकारों को मुहैया होगा रोजगार - सक्सेना

Rajendra Kumar Jain | Updated: 14 Jul 2019, 09:51:01 AM (IST) Dausa, Dausa, Rajasthan, India

- केन्द्रीय खादी ग्रामोद्योग आयोग के अध्यक्ष ने किया स्टोन कलस्टर योजना का उद्घाटन

सिकंदरा. भारत सरकार के खादी और ग्रामोद्योग आयोग अध्यक्ष विनयकुमार सक्सेना ने शनिवार को स्फूर्ति योजना के तहत सिकंदरा गांव में सवा करोड़ की लागत से बने स्टोन कलस्टर योजना का उद्घाटन किया। समारेाह में उन्होंने कहा कि स्टोन की कलाकृति व शिल्पकारों को रोजगार मुहैया कराने के लिए खादी ग्रामोद्योग आयोग ने राज्य में दूसरे नम्बर का स्टोन कलस्टर सिकंदरा में बनाया है।

send stone ... कलस्टर से 160 शिल्पकारों को टे्रनिंग, मार्केटिंग सहित अन्य विषय पर प्रशिक्षित किया जाएगा। स्टोन कलस्टर से शिल्पकारों को रोजगार मुहैया होगा। उन्होंने आने वाले दिनों में सिकंदरा क्षेत्र में सैण्ड स्टोन व्यवसाय को बढ़ावा देने के लिए नई योजनाएं लागू करने की बात कहीं। राज्य खादी बोर्ड निदेशक बद्रीलाल मीना ने कहा कि राजस्थान के जिन गांव व ढाणियों में बिजली नहीं है, वहां पर बायोगैस स्थापित करने पर 13 हजार की सब्सिडी मिलेगी।

send stone... राजस्थान को सात राज्यों में योजनाओं का सबसे अधिक लक्ष्य मिला है। श्रमिकों में बढ़ रही सिलिकोसिस बीमारी की रोकथाम के लिए जल्द ही शिल्पकारों को मॉस्क मुहैया कराए जाएंगे। इसके लिए समय समय पर स्टोन मालिकों व शिल्पकारों को जागरूक करने के लिए शिविर लगाए जाएंगे। खादी विजेल बोर्ड सचिव हरिमोहन मीना ने कहा कि स्टोन कृलाकृति में सिकंदरा ने देश ही नहीं बल्कि विदेशों में पहचान बनाई है। यहां के पत्थर की देश के साथ-साथ विदेशों में भी डिमांड है।

send stone... कलाकृति विकास के लिए कारगर प्रयास किए जाएंगे। खादी समिति सिकंदरा मंत्री शिवकांत बंसल, समिति अध्यक्ष गंगाराम कसाना, लेखाधिकारी भगवानसहाय गुप्ता, सह मंत्री रामस्वरूप कोली, दौसा खादी समिति मंत्री अनिल शर्मा, बयाना समिति मंत्री रामभरोसी, मिंटूराम सैनी, विजेन्द्र अग्रवाल, रामविलास मरियाड़ा, पृथ्वीराज मरियाड़ा, राजेश जैन, सेडूराम कसाना, मुथरेश कसाना आदि मौजूद थे।

 

आखिर मौत से जंग हार गया छोटेलाल
गुढ़ाकटला.
कस्बे के खेड़ाला ढ़ाणी में शनिवार सवेरे एक सिलिकोसिस पीडि़त आखिर मौत से जंग हार गया। ढाणी निवासी छोटेलाल सैनी (38) गत तीन वर्ष से सिलिकोसिस बीमारी से पीडि़त था जिसका जयपुर के निजि चिकित्सालय में उपचार चल रहा था।

मृतक के परिवार को विभाग से कोई भी आर्थिक सहायता नहीं मिलने के चलते इलाज के लिए लाखों रुपए कर्ज भी लिया था लेकिन छोटेलाल आखिर जिंदगी की जंग हार गया। मौत की खबर से ढाणी में शोक की लहर दौड़ गई। मृतक के तीन छोटे नाबालिगबच्चे हैं। ग्रामीणों ने परिजनों को ढांढ़स बंधाया।
जीके1407सीए गुढ़ाकटला. मृतक छोटेलाल

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned