फिर पैर पसार रहा है स्वाइन फ्लू

एक माह में पांच जने आए चपेट में

By: gaurav khandelwal

Published: 26 Jan 2018, 09:24 AM IST

दौसा. जिले में स्वाइन फ्लू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। जिले की एक महिला के बुधवार रात स्वाइन फ्लू की पुष्टि हुई है। जिसका उपचार किया जा रहा है। जनवरी माह में ही एक चिकित्सक की पत्नी सहित जिले के पांच लोग स्वाइन फ्लू की चपेट में आ चुके हैं। चिकित्सा विभाग की ओर से क्षेत्र में सर्वे कराकर टेमीफ्लू वितरित की जा रही है।

 

जानकारी के अनुसार तहसील लवाण मलारना निवासी गुलाबदेवी (55) का जिला अस्पताल स्थित स्वाइन फ्लू कलेक्शन सेन्टर में मंगलवार को सैम्पल लिया गया था। इसकी जयपुर में जांच होने पर बुधवार को स्वाइन फ्लू पॉजीटिव रिपोर्ट आई है। जिसका उपचार जारी है।

 

इस पर चिकित्सा विभाग की ओर से आस-पास के घरों में सर्वे कराया गया है। चिकित्सा विभाग के पास अभी स्वाइन फ्लू से निपटने का कोई कारगर उपाय नजर नहीं आ रहा है। गौरतलब है कि जिले में स्वाइन फ्लू का एकमात्र सैम्पल कलेक्शन सेन्टर जिला अस्पताल मेंं है। यहां इस माह में ही 75 लोगों के सैम्पल लिए जा चुके हैं।

 


ये है लक्षण

श्वांस लेने में परेशानी, नाक से पानी आना, खांसी, जुकाम एवं बुखार आने पर स्वाइन फ्लू हो सकता है। ऐसे में लापरवाही नहीं करें।

 

 

नियंत्रण मेंं है स्थिति
स्वाइन फ्लू की सूचना मिलने पर विभाग की ओर से आस-पास के घरों का सर्वे कराया जाता है। वहीं ऐहतियात के तौर पर टेमीफ्लू दवा भी वितरित की जाती है। जिले में अभी स्वाइन फ्लू की स्थिति नियंत्रण में है।
डॉ. रामफल मीना, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी, दौसा

 

 

 

आठ चिकित्सा प्रभारियों पर गाज


दौसा. कलक्टे्रट सभागार में गुरुवार को आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक हुई। इसमें जिला कलक्टर नरेशकुमार शर्मा ने कहा कि शहरी ग्रामीण क्षेत्रों में आमजन को समय पर बेहतर चिकित्सा सुविधाए मुहैया कराएं। उन्होंने परिवार कल्याण में कम प्रगति होने पर कोट, बगड़ी, दुब्बी, भंडारी के पीएचसी प्रभारी को कारण बताओ नोटिस जारी करने व वेतन रोकने के लिए निर्देश दिए।

 

पीपीआईसीडीयू में शत प्रतिशत लक्ष्य प्राप्त नहीं करने पर सीएचसी प्रभारी सिकराय, गीजगढ़,लवाण एवं बसवा को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए गए। महुवा में गोयल हॉस्पिटल के द्वारा भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत शिकायत मिलने पर कलक्टर ने अग्रिम आदेश तक योजना से बर्खास्त करने के निर्देश भी दिए।

 


जिला कलक्टर ने कहा कि सभी चिकित्सा अधिकारी अपने क्षेत्र में मौसमी बीमारियों के संबंध में विशेष सतर्कता बरतें।
उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि परिवार कल्याण व टीकाकरण में लापरवाही बरतने वाले चिकित्सा कर्मियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई करें। बैठक मे सीएमएचओ डॉ. आर. पी मीना , डॉ. श्रीप्रकाश मीना सहित समस्त बीसीएमएचओ, पीएचसी, सीएचसी प्रभारी एवं अन्य कार्मिक उपस्थित थे।

gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned