भर्ती मरीज को नहीं है कोरोना, चिकित्सा प्रशासन ने ली राहत की सांस

The admitted patient is not corona in Dausa: मरीज देवीसिंह गुर्जर की कोरोना वायरस की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर चिकित्सा विभाग ने राहत की सांस ली है

By: gaurav khandelwal

Published: 07 Mar 2020, 08:37 AM IST

दौसा. जिला अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती मरीज देवीसिंह गुर्जर की कोरोना वायरस की रिपोर्ट नेगेटिव आने पर चिकित्सा विभाग ने राहत की सांस ली है। जिला अस्पताल के प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ. सीएल मीना ने बताया कि इटली का दल जयपुर की जिस होटल में ठहरा था, वहां महुवा क्षेत्र के सिकंदरपुर गांव निवासी देवीसिंह गुर्जर गार्ड के रूप में कार्यरत था। उसकी तबीयत बिगडऩे के बाद वह गांव आ गया था। जिसको परिजनों ने अस्पताल में भर्ती कराया था। पीएमओ डॉ. मीना ने बताया कि भर्ती मरीज की जांच के लिए जयपुर नमूने भेजे थे। शुक्रवार को जयपुर में रिपोर्ट के बारे में जानकारी ले ली है, उसको कोरोना नहीं है। मरीज को जुकाम व बुखार ही है।

The admitted patient is not corona in Dausa


चिकित्सा विभाग सतर्क, रेपिड रेस्पांस टीमें बनाई
दौसा. घबराएं नहीं, कोरोना वायरस हवा से नहीं फैलता। यह किसी सरफेस या सतह को छूने से फैल सकता है। इसका सीधा सा बचाव यही है कि किसी रेलिंग, टेबल-कुर्सी या किसी वस्तु को नहीं हुएं और छूने के तुरन्त बाद साबुन से अ'छी तरह से हाथ धो लें। इतना करने से ही कोरोना वायरस से बचाव हो सकता है।


शुक्रवार को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय में कोरोना वायरस को लेकर आयोजित बैठक में कन्टेंटमेंट प्लान पर चर्चा के दौरान यह बातें उभर कर सामने आई। सीएमएचओ डॉ. पीएम वर्मा ने कहा कि वायरस भारी होने के कारण हवा से नहीं फैलता। इसलिए अपने घर, कार्यालय आदि में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें और दिन में तीन बार पौंछा लगाएं तो भी कोरोना वायरस से आसानी से बचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से फैल रही अफवाह पर विश्वास नहीं करें।


बैठक में विश्व स्वास्थ्य संगठन की एसएमओ डॉ प्रियंका शर्मा ने कहा कि मास्क की जरूरत उन चिकित्सा•ॢमयों को है, जो कि फील्ड में हैं या फिर लोगों के उपचार से सीधे तौर पर जुड़े हुए हैं। उन्होंने कोरोना वायरस के प्रति हैल्थ वर्कस को भी जागरूक करने पर जोर दिया। क्योंकि वे सीधे तौर पर आमजन के सम्पर्क में रहते हैं।


सीएमएचओ डॉ.वर्मा ने बताया कि कोरोना वायरस के प्रति विभाग पूरी तरह सतर्क है और वायरस को फैलने से रोकने और बचाव के लिए हर संभव उपाय किए जा रहे हैं। सभी चिकित्सा केन्द्रों पर मास्क पहुंचा दिए गए हैं ताकि मेडिकल कर्मी उनका उपयोग कर सकें। इसके अलावा कोरोना वायरस के प्रति कोई भी सूचना या शिकायत मिलने पर कार्यवाही के लिए 6 रेपिड रिस्पांस टीमें बनाई गई हैं। इनमें से पांच टीमें ब्लॉक स्तर पर और एक टीम जिला स्तर पर सक्रिय रहेगी। यह सभी टीमें उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (स्वास्थ्य) डॉ. मनीष चौधरी के निर्देशन में कार्य करेगी।


डा.ॅ चौधरी ने बताया कि वायरस को फैलने से रोकने के लिए कम्युनिटी ट्रांसमिशन और पर्सनल ट्रांसमिशन पर ध्यान देने की जरूरत है। यदि किसी व्यक्ति को खांसी, जुकाम, गले में दर्द बुखार आदि लक्षण हों तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें औैर चिकित्सक की ओर से दिए गए निर्देशोंं का सख्ती से पालन करें। ऐसे लक्षण वाले व्यक्ति को स्वत: प्रेरित होकर परिजनों और अन्य लोगों से भी दूर रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि मास्क का उपयोग करने वाले भी यह ध्यान रखें, कि मास्क खराब होने पर उसे इधर-उधर नहीं फैंके, बल्कि जला दें, ताकि इन्फेक्शन फैलने से रोका जा सके। बैठक में जिला प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आरपी मीणा, पीएमओ डॉ.सीएल मीणा, जिला कार्यक्रम प्रबंधक गौरव गुप्ता, शहरी कार्यक्रम प्रबंधक पूजा सैनी, बीसीएमओ डॉ. रमेश बैरवा, डॉ रामकिशन मीणा, ब्लॉक कार्यक्रम प्रबंधक लोकेश खण्डेलवाल, बसंत कौशिक, अरविंद शर्मा व राजेन्द्र जांगिड़ सहित काफी संख्या में चिकित्सा अधिकारी प्रभारी मौजूद थे।

The admitted patient is not corona in Dausa

gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned