मात्र दो लाख में ही कागजों में बिक गई 50 साल पहले बसी कॉलोनी

रामगढ़ पचवारा कस्बे का है मामला, दुकानें बंद कर तहसील कार्यालय पर किया धरना प्रदर्शन

By: Rajendra Jain

Updated: 02 Mar 2021, 02:05 PM IST

दौसा. लालसोट क्षेत्र के रामगढ़ पचवारा कस्बे में एक रोचक मामला प्रकाश में आया है। कस्बे के बस स्टैण्ड के पास दो बीघा भूमि में बसी शिव कॉलोनी को उक्त भूमि के खातेदारों द्वारा मात्र दो लाख रुपए में बेचकर रामगढ पचवारा तहसील कार्यालय से विक्रय पत्र का पंजीयन(रजिस्ट्री) करा लिया गया है। जबकि उक्त भूमि पर पिछले करीब पचास सालों से दर्जनों परिवार मकान व दुकान पर बनाकर रह रहे है। उक्त कॉलोनी की भूमि की रजिस्ट्री होने की जानकारी मिलते ही कस्बे में हड़कंप मच गया और कॉलोनी के निवासी अपनी दुकानों को बंद रख कर रामगढ पचवारा तहसील कार्यालय पर धरना प्रदर्शन करते हुए नारे लगाने लगे। मामले को लेकर सोमवार को कस्बे की शिव कालोनी के निवासी दर्जनों जनों ने रामगढ पचवारा तहसील कार्यालय के सामने टेंट लगा कर धरना प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। इस दौरान उन्होंने एसडीएम सरिता मलहोत्रा व नायब तहसीलदार धन्नलाल बैरवा को ज्ञापन देकर बताया कि कस्बे में खसरा नंबर 407 में पिछले पचास शिव कॉलोनी बसी हुई है, जिस पर सर्व समाज के लोग अपने मकान दुकान बनाकर निवास कर रहे हैं । उक्त भूमि पर सभी कॉलोनी वासियों ने बेचान इकरारनामा के जरिए भूमि क्रय कर रखी है और यहां करीब पचास दुकानें व अस्सी से अधिक मकान बने हुए हैं। ज्ञापन में ग्रामीणों ने बताया कि उक्त भूमि को आबादी भूमि में परिवर्तन के लिए तत्कालीन उपखंड अधिकारी द्वारा दो बार खातेदारों को नोटिस भी दिए जा चुके हैं, उसके बाद भी कुछ जनों ने दो लाख रुपए में अन्य जनों को बेचान करते हुए अधिकारियों की मिलीभगत से बिना जांच पड़ताल किए विक्रय पत्र पंजीयन करा लिया गया है। ज्ञापन में ग्रामीणों ने बताया कि उक्त विक्रय पत्र पंजीयन को लेकर गहरा रोष व्याप्त है और मामले को लेकर संबंधित अधिकारियों और विक्रय कर्ताओं के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उक्त विक्रय पंजीयन को खारिज किया जाए व कॉलोनी में बसे लोगों को पट्टे जारी किए जाएं। इस दौरान विनोद मीना, कृष्णावतार गुप्ता, लाला बुर्जा, अंकित कटारा, जगदीश तिवाड़ी, कैलाश कटारा, सोनू शर्मा, बाबूलाल पुजारी, तुलसीराम शर्मा, रामप्रसाद खाडा, कमलेश पुजारी श्रीराम गुप्ता, रामकरण मीणा, बंटी सोनी, अंकित महर कैलाश गुप्ता, बबलू शर्मा एवं आशीष जांगिड़ समेत कई जने मौजूद रहे। The colony settled 50 years ago was sold on paper for only two lakhs


विक्रय पत्र का पंजीयन नियमानुसार
मामले को लेकर नायब तहसीलदार धन्नालाल बैरवा ने बताया कि विक्रय पत्र का पंजीयन पूरी तरह नियमानुसार किया है। शिकायत मिलने के पर वे स्वयं मौके पर गए हैं। मौके पर पूरी तरह आवासीय कॉलोनी व आम रास्ते बने हुए है, मौके की गिरदावरी रिपोर्ट में दक्त भूमि पड़त (खाली भूमि, खेत नहीं होने वाली जमीन)के रुप में दर्ज है। यदि पटवारी द्वारा गिरदावरी में कोई तथ्य छुपाए है तो मामले में पटवारी की भूमिका की जांच करते हुए नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। The colony settled 50 years ago was sold on paper for only two lakhs


ग्रामीणो ने दी रोड जाम करने व रामगढ पचवारा बंद की चेतावनी
वही दूसरी ओर मामले की जानकारी मिलते ही उपखण्ड प्रशासन में भी हड़कंप मच गया। ज्ञापन लेने के बाद उपखण्ड अधिकारी सरिता मल्होत्रा ने तहसीलदार से पूरे मामले की रिपोर्ट तलब कर ली है। दूसरी ओर नायब तहसीलदार ने भी धरना प्रदर्शन स्थन पर पहुंच कर ग्रामीणों की समझाईश करते उचित कार्रवाई का भरोसा दिया, लेकिन ग्रामीणों ने कहा कि वे वर्षों से शिव कालोनी में रह रहे हैं, उसके बाद भी इस तरह उनके दुकान मकानों की भूमि का विक्रय पत्र पंजीयन होना पूरी तरह गलत है। ग्रामीणों ने तत्काल रजिस्ट्री को निरस्त करने, दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने व उन्हें पट्टा जारी करने की मांग करते हुए मंगलवार को रामगढ़ पचवारा में जाम लगाने व बाजार बंद रखने की चेतावनी दी है। The colony settled 50 years ago was sold on paper for only two lakhs

Rajendra Jain
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned