निगम ने कनेक्शन काटा तो पालिका को लगा झटका

-बिलों को आनन-फानन में प्रमाणित कर भेजा स्वायत्त शासन विभाग], निगम के तीन करोड़ रुपए है पालिका पर बिलों का बकाया, -निगम पर वसूली का लक्ष्य हांसिल करने का है दबाव

बांदीकुई. बिजली निगम की ओर से नगरपालिका प्रशासन को स्ट्रीट लाइट का 2.94 करोड़ रुपए जमा कराए जाने के लिए दिए गए नोटिस का तो कोई असर नहीं हुआ, लेकिन निगम की ओर से रविवार को शहर के बीच स्थित गांधी पार्क व कुछ हाईमास्ट लाइट के विद्युत सम्बंध विच्छेद करने की कार्रवाई करना शुरू किया तो पालिका प्रशासन में हडक़म्प मच गया और सोमवार को पालिका ने आनन-फानन में बकाया बिलों को प्रमाणित कर स्थानीय निकाय विभाग को भेज दिया है। नगरपालिका पर जनवरी 2018 से अब तक पब्लिक स्ट्रीट लाइट का करीब 2 करोड़ 94 लाख रुपए के बिजली बिल बकाया हैं।

इस राशि का बिजली निगम की ओर से पालिका को नोटिस भी दिया गया, लेकिन पालिका की ओर से बिल तो जमा कराया नहीं, बल्कि नगरीय विकास कर का 2 करोड़ 57 लाख रुपए का नोटिस थमा दिया। इसके बाद से ही दोनों विभाग के बीच विवाद चल रहा था, लेकिन निगम को मार्च 2020 तक शत-प्रतिशत लक्ष्य हासिल किया जाना है। ऐसे में निगम की ओर से कनेक्शन काटने की कार्रवाई शुरू कर दी और गांधी पार्क व कुछ हाईमास्ट लाइट के सम्बंध विच्छेद कर दिए। इस पर पालिका प्रशासन ने बिलों को प्रमाणित कर स्वायत्त शासन विभाग को भेज दिया गया है। हालांकि निगम का कहना है कि कनेक्शन वापस भी जोड़ दिए गए हैं।
दिनभर जलती हैं रोडलाइट
सूत्रों के मुताबिक नगरपालिका शहरी क्षेत्र में लगी अधिकांश रोडलाइट सीधे ही खंभे से लगी हुई हैं। इन रोडलाइट के लिए अलग से कोई मीटर नहीं लगा हुआ है। फ्यूज वायर व टाइमर स्विच भी अधिकांश लाइट पर नहीं हैं। इसके चलते ये लाइट दिनभर जलती रहती हैं। इससे बिजली का दुरुपयोग बढऩे के साथ ही पालिका पर करोड़ों रुपए बिल के नाम पर चढ़ गए। हांलाकि शहर में मात्र 25 टाइमर स्विच लगे हुए हैं, लेकिन ये भी अधिकांश समय खराब रहते हैं।
ये है शहर में लाइट की स्थिति
बिजली निगम सूत्रों के मुताबिक शहर में करीब साढ़े 4 हजार खंभों पर रोडलाइट लगाया जाना तय हैं। इसमें से अब वर्तमान में करीब 3458 लाइट लगी हुई हैं। इसमें 150 वॉट की 16 लाइट, 70 की 1088, 40 की 21 लाइट, 35 वॉट की 558, 30 वॉट की 751 लाइट एवं 18 वॉट की 1024 लाइट खंभों पर लगी हुई हैं। ये लाइटें दिनभर जलती हैं। इसमें भी पालिका के नाम से मात्र 23 कनेक्शन ही लिए हुए हैं।
पालिका ने कर दिया बिल प्रमाणित
पालिका को बकाया जमा कराने के लिए कई बार नोटिस दिया गया, लेकिन बिल प्रमाणित नहीं किया गया। इस पर कनेक्शन विच्छेद किए जाने की कार्रवाई की हिदायत देने पर प्रमाणित कर सरकार को भेजा गया है। बिल मांगा तो नगरीय विकास कर जमा कराने का नोटिस दे दिया था। हालांकि अब शीघ्र बिल जमा होने की उम्मीद है। वसूली का लक्ष्य हांसिल भी किया जाना है। -गुलाबप्रसाद सहायक अभियंता बिजली निगम बांदीकुई
राज्य सरकार के स्तर पर होता है बिल जमा
निगम के बकाया बिल राशि के बिल को प्रमाणित कर स्वायत्त शासन विभाग को भेज दिया है। जहां निगम व स्वायत्त शासन विभाग के उच्च स्तर पर ही बिल जमा कराने व समायोजन का कार्य होता है। निगम की ओर से कोई विद्युत सम्बंध विच्छेद नहीं किए गए हैं। हालांकि वे भी नगरीय विकास कर की राशि विद्युत निगम से मांगते हैं। - बनवारीलाल मीणा, अधिशासी अधिकारी बांदीकुई(का.सं./नि.सं.)

Rajendra Jain Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned