धरना स्थल पर किया प्रदर्शन

पानी की समस्या को लेकर जिला कलक्ट्रेट पर तीसरे दिन भी धरना जारी रहा। बुधवार दोपहर धरनास्थल पर नगर

By: मुकेश शर्मा

Published: 06 Apr 2016, 11:43 PM IST

दौसा।पानी की समस्या को लेकर जिला कलक्ट्रेट पर तीसरे दिन भी धरना जारी रहा। बुधवार दोपहर धरनास्थल पर नगर परिषद उप सभापति वीरेन्द्र शर्मा के नेतृत्व में महिला-पुरुषों ने जलदाय मंत्री का पुतला फुंका तथा नारे लगाकर विरोध जताया। शर्मा ने बताया कि गुरुवार से धरनास्थल पर अनशन भी शुरू किया जाएगा।

धरनास्थल पर कई कॉलोनियों की महिलाएं पहुंची। इस दौरान महिलाओं ने बताया कि पानी की समस्या दिनों-दिन बढ़ती जा रही है। शीघ्र ही ध्यान नहीं दिया तो महाराष्ट्र जैसा हाल हो जाएगा। पानी की वितरण व्यवस्था बिगड़ चुकी है। जलदाय अधिकारी लापरवाह हो गए है। साथ ही प्रशासन के अधिकारी भी ध्यान नहीं देते हैं। बार-बार आश्वासन दिया जाता है, लेकिन उसे पूरा नहीं किया जा रहा है। पानी की समस्या बताने के लिए कोई कंट्रोल रूम या टोल फ्री नम्बर भी जारी नहीं किए हैं। उल्लेखनीय है कि दौसा शहर में सात दिन में एक बार मात्र 20 मिनट पानी की आपूर्ति हो रही है। इससे शहरवासियों में खासा आक्रोश व्याप्त है। धरना स्थल पर समझाइश के लिए एसडीओ संतोष गोयल व  प्रधान दीनदयाल बैरवा भी पहुंचे।

जलदाय मंत्री को ज्ञापन भेजा


बांदीकु ई (बसवा) ञ्च पत्रिक ा. शहर के गुढ़ारोड पर व्याप्त पानी की समस्या के स्थाई समाधान कराने के लिए बुधवार को पार्षद बाबूसिंह गुर्जर ने जलदाय मंत्री को ज्ञापन भेजा है। पार्षद ने बताया कि अभियंताओं की प्रभावी मॉनीटरिंग के अभाव में कर्मचारी नियत समय पर पानी सप्लाई नहीं कर वितरण व्यवस्था में भेदभाव बरत रहे हैं। गुढारोड़ व ग्रीन पार्क कॉलोनी में लोगों को गत दो माह से बूंद-बूंद पानी के लिए परेशान होना पड़ रहा है, जबकि समीप ही स्थित अन्य मोहल्लों में 24 घण्टे पानी सप्लाई किया जा रहा है। इसको लेकर कॉलोनी की महिलाएं कई बार बोरिंग पर पहुंच  विरोध प्रदर्शन भी कर चुकी हैं, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। इसके चलते लोगों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। उन्होंने पानी सप्लाई वितरण व्यवस्था की निष्पक्ष जांच कर कार्रवाई किए जाने की मांग की। 
मुकेश शर्मा Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned