बेखौफ बजरी माफिया, चार माह में 6 को रौंदा

www.patrika.com/rajasthan-news

By: gaurav khandelwal

Published: 20 Jul 2018, 08:16 AM IST

बेधड़क हो रहा अवैध बजरी खनन परिवहन

दौसा. लालसोट. सर्वोच्च न्यायालय की रोक के बावजूद क्षेत्र में होने वाले अवैध बजरी खनन व परिवहन को लेकर सक्रिय बजरी माफिया पूरी तरह बैखौफ हो गया है। पुलिस कार्रवाई के बावजूद बजरी माफिया में कोई डर नहीं है। लगातार अवैध खनन से मोटी कमाई करने में लगे बजरी दलालों पर जब कार्रवाई होती है या पुलिस पीछा करती है तो वे कई बार अनियंत्रित तेज गति से वाहन ले जाते हैं। ऐसे में शहर के बीचोंबीच लोग हादसे का शिकार तक हो जाते हैं। दौसा जिले में स्थिति यह है कि बजरी खनन माफिया ने गत चार माह में ही अब तक छह लोगों की जिंदगी को रौंद डाला हैै। कई चिराग असमय बुझ गए हैं। लेकिन ठोस कार्रवाई नहीं होने से इनके हौसले बुलंद हैं। वे बैखौफ हो गए हैं।

 


बुधवार रात को लालसोट-कोटा मेगा हाइवे पर बिलौणा कलां में पुलिस गश्त नाके पर सवाईमाधोपुर की बनास नदी से बजरी भर कर आ रहे ट्रैक्टर ट्रॉली के चालकों को रोकने का इशारा किया तो ट्रैक्टर-ट्रॉली चालक ने एक एएसआई को टक्कर मारकर कुचलने का प्रयास किया। इससे एएसआई घायल हो गया। पुलिस सम्भली तब तक बजरी से भरे ट्रैक्टर-ट्रॉली चालक अंधेरे का फायदा उठाकर भागने में कामयाब हो गए। एएसआई रामसिंह गुर्जर को लालसोट अस्पताल में भर्ती कराया, लेकिन बाद में उसे जिला अस्पताल के लिए रैफर कर दिया। खनन माफिया द्वारा यह पहला मामला नहीं है।

 

कई बार बजरी से भरे ओवरलोड बड़े ट्रक शहर तक में घुस जाते हैं। जिन्हें कोई रोक टोक नहीं होती। गुप्तेश्वर रोड स्थित बसंत बिहार कॉलोनी में 19 जून 2018 को एक बजरी से भरा ट्रक एक मकान पर पलट गया था। इससे शौचालय धराशायी हो गया था। एक बालिका सहित तीन जने घायल हो गए थे।

 


यहां हो रहा है बजरी खनन


सवाईमाधोपुर की बनास नदी में बजरी का अवैध खनन व उसका अवैध परिवहन होना तो जगजाहिर है। लेकिन इसके अलावा दौसा जिले से गुजर रही बाणगंगा नदी में बांदीकुई व महुवा थाना इलाके मेंभी करीब आधा दर्जन स्थानों पर बजरी का जोरों पर अवैध खनन हो रहा है। इसी प्रकार सैंथल थाना इलाके में सांवा नदी में भी जमकर बजरी का अवैध खनन हो रहा है।

 


मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारी


घटना के बाद गुरुवार दोपहर बिलौणा कलां नांके पर लालसोट पुलिस सीओ मोहनलाल, लालसोट एसएचओ राजेन्द्र मीना एवं मंडावरी थाना प्रभारी प्रवीण कुमार भी पहुंचे और घटना स्थल का मौका मुआयना कर क्षेत्र में बजरी परिवहन को रोकने के पुख्ता प्रयासों पर चर्चा की। इधर गुरुवार शाम एएसपी सुरेन्द्र सिंह भी लालसोट पुलिस थाने पर पहुंचे और घटना के बारे में चर्चा करने के बाद क्षेत्र में बजरी परिवहन को पूरी तरह रोकने के भी निर्देश दिए। एएसआई के दुघर्टना की सूचना मिलते ही दौसा पुलिस उपाधीक्षक जीवप्रकाश जोशी, कोतवाली थाना प्रभारी नरेश मीना जिला अस्पताल पहुंचे।

 

 

इन आधा दर्जन जिंदगियों को लील चुका बजरी माफिया

 


बनास नदी में अवैध रूप से खनन होकर वाहनों में ओवरलोड बजरी भर कर लाने वाले वाहनों से जिले में एक के बाद एक कई हादसे हो चुके हैं। इसमें गत चार माह केस इस प्रकार है।

 


केस-1.
21 मार्च 2018 को लालसोट कस्बे में हेला ख्याल दंगल देखकर जाते वक्त ट्रैक्टर-ट्रॉली बाइक पर चढ़ गई थी, इसमें एक ही परिवार के पाच जनों की मौत हो गई थी।

 


केस-2.
जून 2018 में बांदीकुई के बालाहेड़ा गांव में भी बजरी से भरी ट्रैक्टर ट्रॉली की चपेट में आने से बाइक सवार एक जना मौत के मुंह में चला गया। इनके अलावा भी कई हादसे हो चुके हैं।

gaurav khandelwal Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned