दौसा. जिले में शारदीय नवरात्र की शुरुआत होते ही मंदिरों में घंटे-घडिय़ालों की गूंज दिनभर सुनाई दी। शक्ति व उपासना के पर्व पर घरों व मंदिरों में घट स्थापना के साथ माता की आराधना की गई। मंदिरों में रामायण पठन सहित कई धार्मिक कार्यक्रम शुरू हो गए। माता के मंदिरों में सुबह से ही श्रद्धालुओं का पहुंचना शुरू हो गया। जिले के कई स्थानों पर रामलीला का मंचन शुरू हुआ।

 

दौसा के दुर्गा माता मंदिर में सुबह से ही श्रद्धालुओं की भीड़ रही। झांकी सजाकर विशेष पूजा-अर्चना की गई। फलसा वाले बालाजी मंदिर से मां दुर्गा की प्रतिमा को शोभायात्रा के रूप में पीजी कॉलेज के पीछे आनंद कॉलोनी लाया गया। जहां विशेष पूजा-अर्चना कर धार्मिक कार्यक्रमों की शुरुआत की गई। शोभायात्रा में श्रद्धालु नाचते-गाते आगे बढ़ रहे थे। प्रतिमा को स्थापित करते ही माता के जयकारों से माहौल भक्तिमय हो गया।

 

इसी तरह श्रीदुर्गे महामाई मंदिर के षष्टम पाटोत्सव पर ध्वज शोभायात्रा निकाली गई। श्रीदुर्गे महामाई मंदिर समिति की ओर से शोभायात्रा दुर्गामाता मंदिर से रवाना होकर विभिन्न मार्गों से होते हुए कार्यक्रम स्थल पहुंची। यात्रा में सजी मां दुर्गा की झांकी लोगों के लिए आकर्षण का केन्द्र बनी रही। लोगों ने जगह-जगह पुष्पवर्षा व आतिशबाजी कर स्वागत किया। यात्रा में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी व व डीजे की धुनों पर जमकर नृत्य किया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned