उत्तराखंड में केंद्रीय टीम आएगी हालात का जायजा लेने, स्थिति सुधरने की उम्मीद

उत्तराखंड में केंद्रीय टीम आएगी हालात का जायजा लेने, स्थिति सुधरने की उम्मीद
uttrakhand file photo

| Publish: Jul, 05 2018 06:33:56 PM (IST) Dehradun, Uttarakhand, India

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर उत्तराखंड में जल्द ही एक केंद्रीय टीम आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेगी

(अमर श्रीकांत की रिपोर्ट)
देहरादून। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से आपदा राहत और बचाव कार्यों के बारे में जानकारी ली और मुख्यमंत्री को भरोसा दिलाया कि केंद्र हरसंभव उत्तराखंड की मदद को तैयार है। सूत्रों के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर उत्तराखंड में जल्द ही एक केंद्रीय टीम आपदा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेगी। टीम की अगुआई प्रधानमंत्री कार्यालय के एक वरिष्ठ अधिकारी करेंगे। इस टीम में केंद्रीय वित्त मंत्रालय, केंद्रीय गृह मंत्रालय और कृषि विभाग के अधिकारियों को शामिल किया गया है। यह टीम शीघ्र ही उत्तराखंड आएगी।

 

जनपदों की हालत बदतर

 

दरअसल उत्तराखंड के पर्वतीय जनपदों में अब भी बारिश का कहर जारी है, जिससे काफी नुकसान हुआ है। काफी संख्या में लोग स्कूलों में शरण लिए हुए हैं। चारधाम यात्रा पूरी तरह से बाधित है। मानसरोवर के तीर्थयात्रियों को हेलीकाप्टर से बाहर सुरक्षित निकाला गया है। प्रदेश के पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर के मुताबिक जब तक हालात सामान्य नहीं हो जाते हैं, तब तक तीर्थयात्रियों को संवेदनशील जनपदों में जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। जावलकर का कहना है कि केदारनाथ मार्ग और हेमकुंड साहिब पैदल मार्ग बारिश की वजह से प्रभावित हुआ है, लेकिन आगामी तीन चार दिनों में बारिश थम गई तो तीर्थयात्रियों के सामने कोई समस्या नहीं आएगी। प्रदेश के जोशीमठ, पिथौरागढ़ और धारचूला में हालात अब भी बदतर हैं।


श्रीनगर -बद्रीनाथ हाई वे फिलहाल बंद


पिछले दिनों जोशी मठ में फंसे 7 बच्चों को बाहर निकाला गया है। इसके अलावा गुरुवार को धारचूला के व्यास घाटी में बना पूल टूट गया है। जिससे ग्रामीणों को काफी परेशानी का समाना करना पड़ रहा है। इसके अलावा श्रीनगर -बद्रीनाथ हाई वे फिलहाल बंद है। गंगोत्री और केदारनाथ में बनीं सुरक्षा दीवार में दरार देखी गई है। शहरी विकास मंत्री और सरकारी प्रवक्ता मदन कौशिक का कहना है कि पड़ताल और सुरक्षा को मजबूत करने के मकसद से विशेषज्ञों की मदद ली जा रही है। पर्वतीय जनपदों में स्थिति सामान्य होने में करीब एक सप्ताह का समय अभी और लग सकता है। वैसे प्रभावित क्षेत्रों में चौकसी बरती जा रही है। चिंता जैसी कोई बात नहीं है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned