उत्तराखंड में नहीं थम रहा बादल फटने का सिलसिला, जिलाधिकारियों को अलर्ट रहने के विशेष निर्देश

उत्तराखंड में नहीं थम रहा  बादल फटने का सिलसिला, जिलाधिकारियों को अलर्ट रहने के विशेष निर्देश
uttrakhand rain file photo

| Publish: Jul, 21 2018 06:17:23 PM (IST) Dehradun, Uttarakhand, India

दरअसल पिछले कई दिनों से प्रदेश के पर्वतीय जनपदों में बादल फटने की घटनाएं हुई हैं जिससे लोग काफी परेशानी में हैं

(अमर श्रीकांत की रिपोर्ट)
देहरादून। हिमाचल प्रदेश में बादल फटने का सिलसिला थम नहीं रहा है। शनिवार को बागेश्वर में बादल फटा लेकिन किसी तरह की कोई जन हानि की सूचना नहीं है। हालांकि 50 से ज्यादा पशुओं के बहने की आशंका आपदा प्रबंधन ने व्यक्त की गई है। दरअसल पिछले कई दिनों से प्रदेश के पर्वतीय जनपदों में बादल फटने की घटनाएं हुई हैं जिससे लोग काफी परेशानी में हैं। शनिवार को जुमा और भापकुंड के पास बादल फटने के कारण जो दो व्यक्ति लापता हो गए थे आज भी उनका पता नहीं चला। हालांकि शेष दो व्यक्तियों की 20 जुलाई को घटना स्थल पर ही मौत हो गई थी।

 

बादल फटने की चेतावनी

 

आपदा न्यूनीकरण एवं प्रबंधन केंद्र ने बागेश्वर, पिथौरागढ़ और चमोली सहित 7 जनपदों में विशेष तौर पर अलर्ट जारी किया है और चेतावनी दी है कि आने वाले दिनों में इन जनपदों में भयंकर बारिश हो सकती है। ऐसे में बादल भी फट सकते हैं। लिहाजा ग्रामीणों को अलर्ट रहने की आवश्यकता है। यमुनोत्री जाने में तीर्थयात्रिों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यमुनोत्री में दूसरे अस्थाई पुल से तीर्थयात्री आवागमन कर रहे हैं। ऋषिकेश -यमुनोत्री राजमार्ग -94 ओजरी के पास मलवा आ जाने से बंद पड़ा हुआ है। इस राजमार्ग को दुरुस्त करने में करीब एक सप्ताह का समय लगने की आशंका है।

 

कई मार्ग बंद

 

प्रदेश में हुई भारी बारिश की वजह से शनिवार को करीब 125 पैदल
मार्ग और करीब 160 ग्रामीण मोटर मार्ग बंद पड़े हुए हैं। जिससे स्थिति काफी बदतर बनी हुई है। आपदा प्रबंधन के सचिव अमित सिंह नेगी के मुताबिक पर्वतीय जनपदों में हो रही बारिश की वजह से हालात ज्यादा खराब हुए हैं हालांकि सरकार प्रभावितों को राहत शिविरों में भेज रही है । उन्होंने कहा कि पर्वतीय जनपदों में स्कूल और कालेज भी आगामी एक सप्ताह के लिए बंद कर दिए गए हैं। सरकार पूरी तरह से मुस्तैद है। चिंता जैसी कोई बात नहीं है। उन्होंने कहा कि 23 जुलाई तक प्रदेश में भयंकर बारिश की संभावना है। सभी जिलाधिकारियों को विशेष तौर पर अलर्ट कर दिया गया है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned