Uttarakhan News: दो हेलीकॉप्टरों के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद वीवीआईपी को सताने लगी चिंता

Uttarakhan News: दो हेलीकॉप्टरों के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद वीवीआईपी को सताने लगी चिंता
Uttarakhan News: दो हेलीकॉप्टरों के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद वीवीआईपी को सताने लगी चिंता

Yogendra Yogi | Updated: 23 Aug 2019, 05:47:23 PM (IST) Dehradun, Dehradun, Uttarakhand, India

Uttarakhan News: उत्तरकाशी में हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त ( Crash ) होने के बाद वीवीआईपी ( VVIP ) को सुरक्षित हवाई यात्रा की चिंता सताने लगी है। एक अन्य हेलीकॉप्टर को राहत सामग्री पहुंचाने के दौरान नगवाडा में शुक्रवार को हेलीकॉप्टर को इमरजैंसी लैंडिग करनी पडी।

Uttarakhan News: देहरादून (कुंवर हर्षित), उत्तरकाशी में हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त ( Helicopter crashed ) होने के बाद राज्य के वीवीआईपी को अपनी सुरक्षित हवाई यात्रा की चिंता ( VVIP Worried ) सताने लगी है। एक अन्य हेलीकॉप्टर को राहत सामग्री ( Rescue Operation ) पहुंचाने के दौरान नगवाडा में शुक्रवार को हेलीकॉप्टर को इमरजैंसी लैंडिग ( Emergency Landing ) करनी पडी। घटना में पॉयलट व को पॉयलट मामूली रूप से घायल हो गए और हेलीकॉप्टर क्षतिग्रस्त हो गया। इसके बाद आनन फानन में प्रशासन सरकारी हेलीकॉप्टरों को सुरक्षित करने की तैयारी में जुट गया है। वीवीआईपी सवारी सरकारी हेलीकाप्टर जल्द ही अपग्रेड ( Helicopter Upgrade ) किये जाएंगे। उत्तरकाशी में पिछले तीन दिनों में गिरे दो हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो चुके हैं।

हेलीकॉप्टर होंगे अपग्रेड
जानकारी के मुताबिक उत्तराखंड के सरकारी हेलीकॉप्टर अपग्रेड किए जाएंगे। इस पर राज्य के आला अधिकारियों के बीच विचार विमर्श चल रहा है। सरकारी हेलीकॉप्टरों को और महफूज रखने के लिए लेटेस्ट अपडेट मशीने लगाई जाएंगी। इसमें सुरक्षित फ्लाइंग से लेकर सुरक्षित लैंडिग ( Safe Landing ) तक की तकनीकी पर विचार हो रहा है। यह सुरक्षित फ्लाइंग न केवल खराब मौसम में उड सकेंगी बल्कि जरूरत पड़ी तो वीवीआईपी को सुरक्षित धरती पर लैंड भी करवा सकेंगी।

वीवीआई से जुड़ा है मुदï्दा
सचिव नागरिक उड्डयन दिलीप जावलकर ने बताया कि वीवीआईपी की सुरक्षित हवाई यात्रा के लिए हेलीकॉप्टरों की मशीनों को अपग्रेड करवाया जाएगा। इस पर फिलहाल विचार विमर्श चल रहा है। यह मामला चूंकि वीवीआईपी से जुड़ा हुआ है, इसलिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण है।

असुरक्षति फ्लाईंग के मामले
उत्तरकाशी में हुए हेलीकॉप्टर हादसों के बाद सरकारी हेलीकॉप्टरों की मशीनों को अपडेट करने पर जोर दिया जा रहा है। फ्लाइंग व टेक ऑफ के इतर भी इसमें कई बदलाव करने के सुझाव मांगे जा रहे हैं। इसमें सबसे बड़ा सवालिया निशान यह है कि चारधाम यात्रा और केदार नाथ हेली सेवा के दौरान आम लोगों की सुरक्षा निजी कंपनियों के भरोसे रहती हैं। कंपनियां भी डीजीसीए ( DGCA ) के मानकों का पालन करती हैं, लेकिन केदारनाथ हेली सेवा में असुरक्षित फ्लाइंग ( Insecured Flying ) के केस लगातार सामने आते रहते हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned