उत्तराखंड में हो रही मंत्री के बड़े आदेश की अवहेलना, अधिकारी कर रहे नजरअंदाज

Uttarakhand News: लिखित आदेश जारी होने के बावजूद कार्रवाई नहीं, विभागीय सचिव ने दिया कोविड-19 के कार्यों में व्यस्त होने का हवाला...

 

By: Prateek

Published: 27 May 2020, 08:09 PM IST

अमर श्रीकांत

(देहरादून): महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग के मुख्यालय में तैनात डिप्टी डायरेक्टर सुजाता सिंह अब भी अपने पद पर बनी हुई हैं। शासन में मंत्री के आदेश की चर्चा जरूर है लेकिन जांच कब और कैसे होगी, इस पर खामोशी है। वहीं, महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास मंत्री रेखा आर्य को शासन की ओर से किए जाने वाले जांच पर भरोसा नहीं है। इधर, महिला सशक्तीकरण एवं बाल विकास विभाग की सचिव सौजन्या इस मामले में गंभीर तो हैं लेकिन स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कह पा रही हैं। ऐसे में कई तरह की अटकलें लगाई जा रही हैं।

 

सुजाता सिंह को पद से हटाने के निर्देश मंत्री रेखा आर्य ने दिए हैं। मंत्री रेखा आर्य के मुताबिक, डिप्टी डायरेक्टर के बारे में कई तरह के आरोप काफी पहले से भी आते रहे हैं। शुरुआती दौर में शासन की ओर से जांच कराई गई जिसमें आरोप प्रमाणित भी हुए हैं। बावजूद, सुजाता सिंह के खिलाफ कोई कार्रवाई अब तक नहीं हुई। रेखा आर्य के मुताबिक, उन्होंने खुद ही आरोपित के फाइलों की जांच की है। जिसमें स्पष्ट रूप से कई तरह की गड़बड़ियां उजागर हुई हैं। खास बात यह है कि एक ही अधिकारी ने 11 बार उनकी सीआर लगातार 11 साल तक भरा है।

 

मंत्री के मुताबिक, उन्होंने विभागीय सचिव को लिखित आदेश दिए हैं कि तत्काल प्रभाव से डिप्टी डायरेक्टर के पद से सुजाता सिंह को हटाया जाए। रेखा आर्य ने स्पष्ट किया कि जल्द ही इस पर बड़ी कार्रवाई की जाएगी। दूसरी ओर, विभागीय सचिव सौजन्या ने बताया कि उनकी ड्यूटी कोविड-19 के कार्यों में लगी हुई है। लिहाजा वो काफी व्यस्त हैं। तत्काल वो कुछ भी कहने की स्थिति में नहीं हैं।

Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned