केंद्र सरकार बचाएगी हिमालयी राज्यों के अखरोट-बादम... खाए जाओ

केंद्र सरकार बचाएगी हिमालयी राज्यों के अखरोट-बादम... खाए जाओ
केंद्र सरकार बचाएगी हिमालयी राज्यों के अखरोट-बादम... खाए जाओ

arun Kumar | Updated: 09 Oct 2019, 07:00:00 AM (IST) Dehradun, Dehradun, Uttarakhand, India

Uttrakhand: केंद्र सरकार ने उत्तराखंड समेत चार हिमालयी राज्यों में जंगली जानवरों से अखरोट-बादम की फसलों को बचाने का फैसला किया है (
The central government will save the walnuts of the Himalayan states)। राज्यों में अखरोट व बादाम की फसलों को बढ़ावा दिया जाएगा (Walnut and almond crops will be promoted)। उत्पादन बढऩे से दूसरे देशों से अखरोट और बादाम नहीं मंगाना पड़ेगा। इससे किसानों के साथ ही व्यापारियों को फायदा होगा।

देहरादून : केंद्र सरकार ने उत्तराखंड समेत चार हिमालयी राज्यों में जंगली जानवरों से अखरोट-बादम की फसलों को बचाने का फैसला किया है। राज्यों में अखरोट व बादाम की फसलों को बढ़ावा दिया जाएगा। उत्पादन बढऩे से दूसरे देशों से अखरोट और बादाम नहीं मंगाना पड़ेगा। इससे किसानों के साथ ही व्यापारियों को फायदा होगा। केंद्र सरकार के विशेषज्ञों का मानना है कि जब अखरोट व बादाम को जंगली जानवर नुकसान नहीं पहुंचा पाते हैं तो किसानों के साथ व्यापारियों के लिए भी यह मुनाफे का सौदा रहता है। इसके अलावा हिमालयी राज्यों में अखरोट और बादाम की पैदावार के काफी आसार हैं, लेकिन अभी तक उत्पादन कम होने के चलते विदेशों से महंगी दरों से आयात होता है।

न राज्यों के लिए बनाया गया एक्शन प्लॉन

कृषि मंत्रालय की ओर से उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश और जम्मू कश्मीर में अखरोट व बादाम की पैदावार करने के लिए जल्द ही एक्शन प्लॉन जारी किया जाएगा। कुछ दिन पहले चार राज्यों के अधिकारियों ने उद्यान विभाग के एक्शन प्लॉन पर चर्चा की। इसमें अखरोट उत्पादन के लिए विख्यात जम्मू कश्मीर को अखरोट और बादाम की पैदावार के लिए किसानों को पौध तैयार करने की जानकारी अन्य राज्य से साझा की गई। इसके अलावा दूसरी फसलों के सापेक्ष इसमें ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती है। कृषि मंत्रालय की बैठक में उत्तराखंड के बागवानी के निदेशक संजय श्रीवास्तव ने अखरोट और बादाम को लेकर प्रस्तुति दी। जानकारों का मानना है कि उत्तराखंड में लगभग 21 हजार मीट्रिक टन अखरोट का उत्पादन हो रहा है। हांलाकि कामर्शियल दृष्टि से यह काफी नहीं है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned