बरसाई थी भाजपाइयों पर लाठियां, मिल गई थाने की कमान

महज डेढ़ महीने में हो गए दोषमुक्त, एक दिसंबर को मतगणना के दौरान कराया था लाठीचार्ज

By: Ashish Shukla

Published: 20 Jan 2018, 10:11 PM IST

देवरिया. सत्ताधारी पार्टी के कार्यकर्ताओं एवं पत्रकारों पर लाठी चार्ज करानेवाले अधिकारी को महज डेढ़ महीने की जांच के बाद ही क्लीनचिट मिल गई। तब सदर कोतवाली के कोतवाल रहे राय साहब यादव का निलम्बन समाप्त कर बहाली कर दी गई है। यादव को हाल ही में अलाव में विस्फोट से चर्चा में आए रामपुर कारखाने का प्रभार दिया गया है। लाठी चार्ज की घटना के एक माह 18 दिन बाद ही मामला शान्त हो चला देख कानून-व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त बनाए रखने के नाम पर कई थाने के प्रभारियों का तबादला किया गया। जिसमें मौका देख राय साहब यादव को भी थाने पर तैनात कर दिया गया। बरहज थाने के प्रभारी विनय सिंह को बघौचघाट थाने का प्रभारी बनाया गया है। रामपुर कारखाना थाने के प्रभारी प्रभातेश श्रीवास्तव को बरहज थाने का प्रभार सौंपा गया है। गौरीबाजार थाने के उपनिरीक्षक रवीन्द्र कुमार को एकौना थाने का प्रभारी निरीक्षक बनाया गया है। वहीं, एकौना के कार्यवाहक थानाध्यक्ष जितेंद्र सिंह को गौरीबाजार थाने पर स्थानांतरित किया गया है। गौरतलब है कि बघौचघाट में कुछ दिन पूर्व सरकारी चिकित्सक डॉक्टर खालिद की गोली मारकर हत्या के बाद उग्र भीड़ ने जबरदस्त प्रदर्शन किया था। इसके बाद पुलिस अधीक्षक ने थाना प्रभारी को लाइन हाजिर कर दिया था।

 


भाजपाइयों में असंतोष
भाजपा कार्यकर्ताओं के उपर लाठियां बरसवाने वाले अधिकारी को निलंबन समाप्त कर थाने की कमान सौंपे जाने से भाजपाइयों में भी असंतोष है। यादव की तैनाती ने सत्ताधारी पार्टी के कार्यकर्ताओं के बीच अन्दरूनी तौर पर हंगामा बरपा दिया है। बताते चलें कि पहली दिसंबर को नगर निकाय चुनाव को मतगणना के दिन पानी लेने बाहर जा रहे भाजपा की युवा शाखा के एक नेता से गेट पर खड़ा एक पुलिस कर्मी उलझ गया था। पुलिसकर्मी द्वारा पास छीनकर फाड़ दिए जाने के बाद जब उसका विरोध हुआ तो सदर कोतवाल के निर्देश पर पुलिस ने लाठी चार्ज कर दिया था, जिससे मचे भगदड़ में पुलिस ने पत्रकारों की गैलरी में भी घुसकर दो पत्रकारों सहित वकीलों को भी अपना निशाना बनाया था । एक पत्रकार का तो इस लाठीचार्ज में सर तक फूट गया था । और तो और बाद में घटना के दिन ही देर रात पुलिस से उलझने वाले भाजपा के दो नेताओं पर कोतवाली में मुकदमा भी दर्ज कर लिया गया था । घटना के बाद मचे हो हल्ले को शान्त कराने के दृष्टिकोण से गोरखपुर रेंज के आईजी मोहित अग्रवाल ने मौके का निरीक्षण किया और घायलों से मुलाकात की । साक्ष्य के रुप मे वीडियो फूटेज देखने के बाद कोतवाल राय साहब यादव को घटना का दोषी मानते हुए निलम्बित करने के साथ ही क्षेत्रीय सीओ को स्थानांतरित करने का आदेश दिया।

 


इनपुट : सूर्य प्रकाश राय

Ashish Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned