पुलिस ने ट्रक को रोका तो मिला कुछ ऐसा कि रह गई दंग

लाखों रुपए की शराब लेकर जा रहा था चालक
चालक और क्लीनर हो गए फरार

By: Sunil Mishra

Published: 15 Nov 2018, 11:28 PM IST


वापी. एलसीबी ने पारडी विस्तार से पेट्रोङ्क्षलग के दौरान एक ट्रक से 16 लाख रुपए से ज्यादा की शराब बरामद की है। एलसीबी की ओर से बताया गया है कि पुलिस निरीक्षक एन के कामलिया और उप निरीक्षक जेएन गोस्वामी क्षेत्र में पेट्रोलिंग पर निकले थे। इस दौरान पुलिस को एक ट्रक से भारी मात्रा में शराब ले जाने की सूचना मिली थी। कुछ देर बाद पारडी हाइवे से एमएच 04 एफजे 0661 नंबर ट्रक वहां से निकला। एलसीबी ने रोकना चाहा तो चालक ने कुछ दूरी पर ट्रक रोक दिया और क्लीनर समेत उतरकर फरार हो गया। ट्रक की जांच करने पर अंदर से 312 बॉक्स में शराब की 3744 बोतल बरामद हुई। इसकी कीमत 16 लाख, 86 हजार छह सौ रुपए है। दस लाख की ट्रक और शराब को एलसीबी ने पारड़ी पुलिस को सौंप दिया है। मामले की जांच पारड़ी पुलिस कर रही है।

patrika

 

भिलाड़ में शराब के साथ दो गिरफ्तार
इधर, भिलाड़ पुलिस ने कार की सीएनजी टंकी में शराब ले जा रहे दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। बताया गया है कि पुलिस ने वाहनो की जांच के दौरान शंका के आधार पर एक कार को रोककर तलाशी लेकर डेढ़ लाख की शराब बरामद की। पुलिस के अनुसार बूटलेगरों ने सीएनजी टंकी में शराब छुपाने के लिए चोरखाना बनाया था। जांच के दौरान उसमें से 144 बोतल शराब बरामद कर बुटलेगर अनीश तथा ईश्वर को गिरफ्तार कर लिया है।

फरार घूसखोर आयकर अधिकारी ने किया सरेंडर
वलसाड. ब्याज पर रुपए देने का धंधा करने वाले शख्स से 1.55 लाख रुपए की रिश्वत लेने के बाद पकड़े जाने के डर से पुलिस कर्मी को कार से टक्कर मार कर फरार आयकर अधिकारी रविन्द्र बाकड़े ने 12 दिन बाद कोर्ट में सरेन्डर कर दिया। जहां से कोर्ट ने उसे एसीबी को सुपुर्द कर दिया।

पकड़े जाने से पुलिसकर्मी को टक्कर मारी थी
वापी में तैनात आयकर अधिकारी रविन्द्र बाकड़े ने ब्याज का धंधा करने वाले महावीर परमार को वर्ष 2011-12 के दौरान अकाउन्ट में 12 लाख रुपए के लेनदेन मामले में नोटिस दिया था। बाद में उसने महावीर से पूरे मामले को निपटाने के लिए तीन लाख की घूस मांगी थी। अंत में मामला 1.55 लाख पर तय हुआ, लेकिन बाद में इसकी शिकायत सूरत एसीबी में कर दी गई। इसके बाद एसीबी की टीम ने ट्रेप लगाया और चला में प्रमुख ग्रीन सोसायटी के पास फरियादी ने आयकर अधिकारी को 1.55 लाख रुपए भी दिए। लेकिन एसीबी के पकडऩे से पहले ही भनक लगने से रविन्द्र अपनी कार से वहंा से भागने लगा। उसे रोकने गए एसीबी टीम के पुलिसकर्मी को टक्कर मारकर वह फरार हो गया था। इस संबंध में टाउन थाने में उसके खिलाफ मामला भी दर्ज हुआ था। इस घटना के बाद से फरार चल रहे रविन्द्र ने 12 दिन बाद वलसाड कोर्ट में सरेन्डर कर न्यायिक हिरासत में भेजने का अनुरोध किया था। कोर्ट ने उसे नामंजूर करते हुए एसीबी की कस्टडी में सौंप दिया। एसीबी आगे की जांच में जुटी है।

Sunil Mishra
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned