विस चुनाव : देवास में कांग्रेस-भाजपा की एक-दूसरे के गढ़ पर हैं निगाहें

विस चुनाव : देवास में कांग्रेस-भाजपा की एक-दूसरे के गढ़ पर हैं निगाहें

amit mandloi | Publish: Sep, 03 2018 04:40:23 PM (IST) Dewas, Madhya Pradesh, India

‘पत्रिका’ ने जिले के ऐसे 5-5 मतदान केंद्रों का जायजा लिया, जहां 2013 के चुनाव में भाजपा और कांग्रेस को बंपर वोट मिले थे।

देवास. चुनावी समर के द्वार पर खड़ी भाजपा के विधायक सार्वजनिक कार्यक्रमों शक्ति प्रदर्शन कर रहे हैं। वहीं, कांग्रेस नेता मेल-मिलाप के जरिए नए सिरे से जमीन तैयार कर रहे हैं। वे हर छोटे-बड़े उत्सवों को राजनीतिक रंग देकर मना रहे हैं। भाजपाई विकास कार्य गिना रहे हैं। कांग्रेस अधूरे वादों को तूल दे रही है। इस बीच ‘पत्रिका’ ने जिले के ऐसे 5-5 मतदान केंद्रों का जायजा लिया, जहां 2013 के चुनाव में भाजपा और कांग्रेस को बंपर वोट मिले थे। इस दौरान व्यापारियों, महिलाओं, युवाओं और नौकरीपेशा सहित करीब 125 लोगों से बात कर हकीकत जानी। उनके प्रतिनिधि कितने खरे उतरे और कितने वादों को पूरा किया। यह तस्वीर खींचने की कोशिश की कि 2018 में इन बूथों पर क्या स्थिति रहेगी।

देवास विधानसभा क्षेत्र में 307 पोलिंग बूथ हैं। इनमें से 59 बूथ ग्रामीण क्षेत्र में है। बूथ क्रमांक एक से लेकर 59 बूथों में ग्रामीण क्षेत्र आते हंै। इन ग्रामीण क्षेत्रों में एक दो बूथों को छोडक़र सभी में भाजपा ही आगे रहती है। वहीं शहरी क्षेत्र के कई पोलिंग बूथ ऐसे हैं, जहां से हमेशा कांग्रेस को बढ़त मिली है। ये बढ़त का आंकड़ा मात्र 100 से 150 वोटों को लेकर दोनों दलों में है।

वर्ष 2008 में भाजपा के तुकोजीराव पवार का मुकाबला हाजी हारून शेख से हुआ था। इस चुनाव में पवार 24888 मतों से जीते थे। इसके बाद वर्ष 2013 में भाजपा के तुकोजीराव पवार का मुकाबला रेखा वर्मा से हुआ था, इस चुनाव में पवार 48632 मतों से जीते थे। पवार के निधन के बाद वर्ष 2015 में उपचुनाव में भाजपा से गायत्री पवार का मुकाबला कांग्रेस के जयप्रकाश शास्त्री से हुआ था। पवार ने उपचुनाव 30778 मतों से जीता था। इस लिहाज से देखा जाए तो 17857 मतों से पवार की पत्नी पिछड गई थी।

भाजपा भी पिछड़ी है

शहरी क्षेत्र के कई हिस्सों में भाजपा ही आगे रहती है। बूथ क्रमांक 62 में वर्ष 2008 में भाजपा को 448 मत मिले थे, वहीं वर्ष 2013 में घटकर मात्र 272 लोगों ने भाजपा को मत दिया था। ये ही स्थिति बूथ क्रमांक 63 की रही वर्ष 2008 में इस पोलिंग बूथ पर 456 तो वर्ष 2013 में 370 मत पर ही पार्टी सिमट गई थी। वहीं बूथ क्रमांक 72 में वर्ष 2008 में 738 तो 2013 में मात्र 355 मत ही मिले थे।

5 साल में कांग्रेस का शहरी क्षेत्र में गिरा ग्राफ

2008 के चुनाव में शहरी क्षेत्र से बढ़त हासिल की थी, लेकिन लोगों ने 2013 में इन्हीं बूथों से कांग्रेस को हार तक पहुंचा दिया। वर्ष 2008 में बूथ क्र. 67 में 373 मत तो 2013 में 138 मत पर ही कांग्रेस सिमट गई थी। बूथ क्र. 83 में 2008 में कांग्रेस 137 मत लेकर आई थी, जो 2013 में घटकर 92 ही रह गए।

- इस बार पोलिंग बूथ तक की तैयारी की है। संगठन मजबूती के साथ खड़ा है। पहले सिर्फ ब्लॉक स्तर तक ही पार्टी होती थी। इस बार अधिकांश बूथों पर कांग्रेस का अच्छा प्रदर्शन देखने को मिलेगा।

मनोज राजानी, शहर कांग्रेस अध्यक्ष

- हमने ग्राम केंद्र के पालकों एवं संयोजकों की कार्यशाला कर ली है। आगामी 9 सितंबर तक प्रत्येक बूथ पर जाकर मोबाइल के माध्यम से एक बूथ पर 100 सदस्य बना रहे हैं। कार्यकर्ता पूरी ताकत से लगे हैं। उस अनुसार हर बूथ से आशा है 55 से 60 प्रतिशत वोट मिलेंगे।

नंदकिशोर पाटीदार, भाजपा जिला अध्यक्ष

हर पोलिंग पर आगे-पीछे रहती हैं भाजपा-कांग्रेस

शहर के दोनों छोरों पर कभी 2008 में भाजपा तो 2013 में कांग्रेस रही आगे
307 पोलिंग है देवास में, 59 पोलिंग ग्रामीण क्षेत्र के

चुनाव 2008

पार्टी --- प्रत्याशी --- मत
भाजपा --- तुकोजीराव पवार --- 59071
कांग्रेस --- हारून शेख --- 34183
जीत का अंतर --- 24888

चुनाव 2013

पार्टी --- प्रत्याशी --- मत
भाजपा --- तुकोजीराव पवार --- 98648
कांग्रेस रेखा वर्मा --- 50016
जीत का अंतर ---48632

उप चुनाव 201५

पार्टी --- प्रत्याशी --- मत
भाजपा गायत्री पवार --- 89358
कांग्रेस जयप्रकाश शास्त्री --- 58580
जीत का अंतर --- 30778

भाजपा को 2008 में जहां बढ़त थी वहां 2013 में कम हो गई

बूथ --- भाजपा --- कांग्रेस
62--- 272 --- 387
63---370 ---313
65---406---336
72---396---200
77---355---423

कांग्रेस की स्थिति
बूथ --- भाजपा ---कांग्रेस
67 --- 138 --- 579
80---119---510
83---92---440
90---75---651
113---420---435

Ad Block is Banned