कर्ज से तंग आकर ग्राहक ने  मैनेजर के कैबिन में खाया जहर

कर्ज से तंग आकर ग्राहक ने  मैनेजर के कैबिन में खाया जहर

बैंक प्रबंधन रिकवरी के लिए बार-बार बना रहा था दबाव जिससे परेशान होकर ग्राहक ने बैंक मैनेजर के कैबिन में जहरीला पदार्थ खा लिया।  

देवास/हाटपीपल्या. नगर की भारतीय स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से मकान पर एक ग्राहक ने लोन लिया था। बैंक द्वारा उसकी रिकवरी के लिए बार-बार दबाव बनाया जा रहा था, जिससे परेशान होकर ग्राहक ने बैंक मैनेजर के कैबिन में जहरीला पदार्थ खा लिया।

मिली जानकारी के अनुसार शुक्रवार को दिन में करीब 3.30 बजे समीप के ग्राम मानकुंड निवासी भूपेंद्रसिंह चौहान स्टेट बैंक के मैनेजर अनिलकुमार पांडे के कक्ष में जाकर मैनेजर से लोन की बात पर जहर खाने की धौंस देने लगा। इस पर मैनेजर ने कहा कि खालो जहर, किंतु लोन के पैसे तो जमा करना ही होंगे। देखते ही देखते ग्राहक चौहान ने मैनेजर के सामने जेब में से जहरीला पदार्थ निकाला और खा लिया।

मैनेजर ने तत्काल हाटपीपल्या थाने पर फोन लगाकर पुलिस को मौके पर बुलाया गया। इससे पहले बैंक कर्मचारी चौहान को अस्पताल ले जाने लगे। चौहान बैंक में व सड़क पर लोट लगाने लगा, जिसे बड़ी मुश्किल से बैंक कर्मी व पुलिस जवान सेवालय हॉस्पिटल ले गए, जहां उसका उपचार किया जा रहा है। चौहान के साथ आए दिनेश पाटीदार ने बताया की भूपेंद्रसिंह ने ग्राम मानकुंड में राजेश पाठक से मकान खरीदा था। 

मकान पर स्टेड बैंक ऑफ इंडिया ने करीब 8 लाख का लोन दे दिया। लोन नहीं चुकाने पर बैंक ने नोटिस दिया। इसके बाद भी बैंक में राशि जमा नहीं कर सका। इसके बाद बैंक ने उस मकान नीलामी पेपर में प्रकाशित करवाई। नीलामी में मकान के रुपए कम आंके गए और बचे रुपए चौहान बैंक ने वसूलने के लिए बार-बार दबाव बनाया। चौहान ने मकान खाली कर दिया, उसके बाद भी बैंक द्वारा रिकवरी की सूचना दी जा रही थी। इससे तंग आकर बैंक में जहरीला पदार्थ खा लिया। एसआई सोलंकी ने बताया कि अभी कोई प्रकरण दर्ज नहीं किया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned