scriptdewas breaking news | पटवारियों का कारनामा: नदी की जगह बताया खेत, गेहूं-चने की जगह आलू-प्याज की फसल | Patrika News

पटवारियों का कारनामा: नदी की जगह बताया खेत, गेहूं-चने की जगह आलू-प्याज की फसल

-सेटेलाइट डाटा से मिलान पर खुलासा, पिछले दिनों भोपाल व देवास की टीम ने किया था निरीक्षण, कई पटवारियों पर हुई कार्रवाई

देवास

Published: May 04, 2022 04:44:25 pm

सत्येंद्रसिंह राठौर. देवास
जिले में किसानों द्वारा की जा विभिन्न प्रकार की फसलों की खेती के रकबे, उत्पादन के आकलन बाद उस हिसाब से खरीदी के इंतजाम आदि करने के लिए शासन द्वारा पटवारियों के माध्यम से करवाई जाने वाली गिरदावरी में कई पटवारी लापरवाही कर रहे हैं। मौके पर न जाकर बाले-बाले फसलों व रकबे की जानकारी ऑनलाइन दर्ज की जा रही है। ऐसे ही करीब आधा दर्जन मामलों का खुलासा सेटेलाइट डाटा के माध्यम से हुआ है। भौतिक सत्यापन के लिए बाहर से आई टीम ने स्थानीय टीम के साथ मिलकर निरीक्षण किया तो चौंकाने वाले खुलासे हुए। जिस भूमि को खेत में दर्ज किया गया था वो जगह नदी की निकली। इसी तरह कहीं पर गेहंू-चने की जगह आलू, प्याज-लहसुन तो कहीं आलू, प्याज लहसुन की जगह चना-गेहूं दर्ज कर दिया गया था। इन मामलों के अलावा फसल के प्रकार व उसके रकबे में अंतर होने के मामले भी सामने आए हैं।
साल में रबी सीजन व खरीफ सीजन में पटवारियों के माध्यम से उनके हलका क्षेत्र में गिरदावरी करवाई जाती है। इसके लिए पटवारी को हर किसान के खेत पर जाकर निरीक्षण कर जानकारी एकत्रित करके सर्वे नंबर के हिसाब से ऑनलाइन एंट्री करना रहती है। सामान्यत: गिरदावरी रबी व खरीफ की फसल एक से डेढ़ माह की होने पर की जाती है। जिले के कई पटवारी मौके पर न जाकर घर या कार्यालय में बैठकर यह जानकारी ऑनलाइन दर्ज कर रहे हैं। यह सिलसिला लंबे समय से चला आ रहा है लेकिन सही मॉनटिरिंग न होने के कारण इनका खुलासा सामान्यत: नहीं हो पाता। राजस्व विभाग के सूत्रों की मानें तो करीब एक-डेढ़ साल पहले इस तरह का खातेगांव क्षेत्र में लापरवाही का बड़ा मामला उजागर हुआ था। क्षेत्र के सैकड़ों किसानों ने ज्वार की बोवनी की थी लेकिन पटवारियों ने घर बैठे ही गिरदावरी करके सोयाबीन फसल की इंट्री कर दी थी। बाद में ज्वार खरीदी के इंतजाम शासन स्तर से नहीं होने से हंगामा हुआ था। यह मामला भोपाल स्तर तक चर्चाओं में रहा था। उसके बाद सेटेलाइट डाटा के माध्यम से पटवारियों की गिरदावरी की रेंडमली जांच को अधिक गति दी गई। इसी कड़ी में पिछले दिनों देवास ग्रामीण तहसील में संचालक खाद्य भोपाल व कार्यालय कलेक्टर (खाद्य) देवास की टीम ने कई गांवों का दौरा किया जहां भौतिक सत्यापन में गिरदावरी की लापरवाहियों का खुलासा हुआ। इसके बाद कलेक्टर चंद्रमौली शुक्ला ने करीब आधा दर्जन पटवारियों पर निलंबन की कार्रवाई की है। मामले को लेकर भू अभिलेख अधीक्षक मुरलीधरन व देवास ग्रामीण तहसीलदार आरके हलदार से मोबाइल पर संपर्क किया गया लेकिन बात नहीं हो सकी।
वर्जन
गिरदावरी के संबंध में हुई गड़बडिय़ों से जुड़ी कुछ जांच रिपोर्ट पिछले दिनों मिली थी। इन पर क्या कार्रवाई हुई, यह स्पष्ट नहीं है, दिखवाने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।
-प्रदीप सोनी, एसडीएम देवास।
पटवारियों का कारनामा: नदी की जगह बताया खेत, गेहूं-चने की जगह आलू-प्याज की फसल
पटवारियों का कारनामा: नदी की जगह बताया खेत, गेहूं-चने की जगह आलू-प्याज की फसल
इन पांच गांवों में मिली गड़बड़ी
-शिप्रा से लगे क्षेत्र के गांव टुमनी में जिस रकबे को खेत के रूप में दर्ज किया गया था वहां मौके पर शिप्रा नदी है।
-ग्राम सुनवानी महाकाल में सत्यापन वाली जगह में अधिकांश रकबे में गेहूं की फसल की इंट्री की गई जबकि वास्तव में आधी भूमि पर गेहूं व शेष भूमि पर चना व अन्य फसल बोई थी।
-ग्राम बांगड़दा में जिस किसान के रकबे पर अन्य फसल का जिक्र भी था वहां पर भौतिक सत्यापन में सिर्फ चने की फसल ही मिली।
-ग्राम केलोद की गिरदावरी में भी लापरवाही सामने आई। यहां 0.90 हेक्टेयर में गेहूं मिला, शेष अन्य में चना व अन्य फसलें थीं जबकि रिकॉर्ड में अलग जानकारी दर्ज की गई थी।
-ग्राम लोहारी में जहां का टीम ने भौतिक सत्यापन किया वहां मात्र 0.4 हेक्टेयर में गेहूं, 5 हेक्टेयर में आलू, 1.85 हेक्टेयर में प्याज की फसल थी, जो ऑनलाइन गिरदावरी दर्ज हुई थी उसमें आंकड़े काफी अलग थे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: 12 ओवर के बाद राजस्थान 3 विकेट के नुकसान पर 80 रनों परसुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनOla-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करारInflation Around World : महंगाई की मार, भारत से ज्यादा ब्रिटेन और अमरीका हैं लाचार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.