जिला अस्पताल से दो मरीजों को कोरोना जांच के लिए नमूने देने का कहा तो हो गए लापता

एक महिला व एक पुरुष आए थे, पुरुष पिछले दिनों लौटा था दिल्ली से, बोला डर के मारे चला गया था: बाद में महिला लौट आई, पुरुष के घर जाकर लिया गया सैंपल

By: Chandraprakash Sharma

Published: 27 Mar 2020, 06:25 PM IST

देवास। कोरोना संक्रमण को लेकर एक ओर जहां हड़कंप मचा हुआ है वहीं कुछ लोग जांच व उपचार में भी सहयोग नहीं कर रहे हैं। जिला अस्पताल से गुरुवार को दो ऐसे ही मरीजों को जब डॉक्टरों ने नमूने देने के लिए कहा तो वो लापता हो गए। इसके बाद इनकी तलाश शुरू की गई। मरीजों में एक पुरुष व एक महिला शामिल थी। हालांकि बाद में पुरुष को खोज लिया गया और उसने कहा उसकी जांच इंदौर में हो चुकी है, बुखार भी सही है, डर के मारे वो अस्पताल से चला गया था।
जानकारी के अनुसार शिप्रा निवासी एक पुरुष व मच्छूखेड़ी मकोडिय़ा गांव की एक महिला सर्दी-खांसी, बुखार से पीडि़त होने पर उपचार के लिए जिला अस्पताल लाए गए थे। यहां इनको आइसोलेशन वार्ड में ले जाया गया। जांच के बाद इनको नमूने देने की सलाह दी गई, उधर डॉक्टरों व स्टॉफ का ध्यान थोड़ा इधर-उधर हुआ और दोनों मरीज अस्पताल से लापता हो गए। इसके बाद इनकी तलाश शुरू की गई। उधर शिप्रा के व्यक्ति ने वहां किसी के द्वारा पूछे जाने पर बताया कि उसकी इंदौर में जांच हो चुकी है। बुखार आ रहा था वो भी सही हो गया है। जिला अस्पताल गया था तो एक अलग कमरे में ले जा रहे थे, डर के मारे वहां से चला गया था। अब मैं नमूने देने के लिए तैयार हूं। कोरोना नोडल अधिकारी डॉ .एसएस मालवीय ने बताया डर के मारे मरीज चले गए थे, महिला को श्वास संबंधी बीमारी थी। बाद में महिला अस्पताल आ गई थी और उसका नमूना लिया। वहीं पुरुष के घर टीम पहुंच गई थी और वहां से उसका भी नमूना लिया गया। जिले में पहली बार कोरोना संक्रमण की जांच के लिए नमूने लिए गए हैं। इन मरीजों के लक्षण कुछ मिलते-जुलते थे इसलिए सावधानी के तहत यह कदम उठाया गया है।
सेनेटाइजर एजेंसी की दुकान व गोदाम की जांच की, रेकॉर्ड मांगे
देवास. अधिक दाम में सेनेटाइजर व इससे मिलती-जुलती अन्य सामग्री बेचने की शिकायत मिलने पर ड्रग इंस्पेक्टर व नौपतौल इंस्पेक्टर ने गुरुवार को राधेकृष्णा मार्केटिंग गायत्री विहार में जांच की। यहां दुकान व गोदाम की जांच करके पिछले कुछ माह के दस्तावेज मांगे गए। इस एजेंसी के संचालक संजय सोनी हैं। ड्रग इंस्पेक्टर योगेंद्र यादव ने बताया दस्तावेजों की जांच की जा रही है, यदि किसी प्रकार की गड़बड़ी मिलती हैतो नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

Chandraprakash Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned