इस जिले में बारदान की कमी, धूप में परेशान हो रहा किसान

विजयागंज मंडी उपार्जन केंद्रों पर शुक्रवार को लगी करीब चार किमी लंबी ट्रैक्टरों की कतार, नाराज किसान बैठे धरने पर

By: Chandraprakash Sharma

Published: 24 May 2020, 05:31 PM IST

देवास। लॉकडाउन के कारण लोग घरों में कैद हैं और व्यापार-व्यवसाय प्रभावित हो गया है।नौकरी-व्यापार की चिंता सताने लगी है।इधर अन्नदाता चिलचिलाती धूप में पसीना बहा रहे हैं और सरकारी लाचारी से जूझरहे हैं। किसान उपार्जन केंद्र पर गेहूं बेचने जा रहे किसान बारदान की कमी का खामियाजा भुगत रहे हैं।विजयागंज मंडी उपार्जन केंद्र पर तो इतनी बुरी हालत है कि शुक्रवार को करीब तीन से चार किमी तक ट्रैक्टरों की कतार लग गई। परेशान किसानोंं ने सड़क पर बैठकर धरना भी दिया लेकिन आश्वासन के सिवाय कुछनहीं मिला।
किसान मलखानसिंह देवड़ा ने बताया कि उपार्जन केंद्रों पर बहुत परेशानी आ रही है। बारदान नहीं होने से खरीदी नहीं हो पा रही है।किसानों को एसएमएस करके बुलवा लिया लेकिन खरीदी केंद्रों पर बारदान ही नहीं है। यह समस्या बाकी खरीदी केंद्रों पर भी आ रही है।बारदान नहीं होने के कारण किसान उपज नहीं बेच पा रहे हैं।कई दिनों तक सड़कों पर ट्रैक्टर खड़े रह रहे हैं।धूप में परेशान हो रहे हैं।इस समस्या को लेकर शनिवार को पूर्व मंत्री दीपक जोशी सहित अन्य भाजपा नेता कलेक्टर श्रीकांत पांडेय से मिले।उनसे बारदानों की कमी को लेकर चर्चा की।जोशी ने बताया कि बारदान के कारण परेशान हो रहे किसानों की समस्या से कलेक्टर को अवगत करवाया था।कलेक्टर ने कहा कि हमने लक्ष्य से अधिक गेहूं खरीदा इस कारण बारदान की कमी आई।बारदान को लेकर बात हो गई है। संभवत: रविवार-सोमवार तक बारदान जिले में पहुंच जाएंगे।
बारदान खत्म होने से भड़के किसान
लोहारदा की कृषि उपज मंडी में गेहूं खरीदी का कार्य चल रहा है जिसमें बारदान की कमी एवं शासन के नए नियम जिसमें फसल लाने के मैसेज के 48 घंटे के बाद बिल नहीं बनेंगे से किसानों में शनिवार को नाराजगी देखने को मिली।
शुक्रवार शाम को एक बार फिर शासकीय खरीदी में बारदान खत्म होने से तुलाई का कार्य बंद करना पड़ा जो कि शनिवार को भी बारदान नहीं आने से बंद ही रहा, जिससे कि पिछले दिनों से लाइन लगाकर खड़े किसानों को मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है शुक्रवार को खत्म हुए बारदान जब शनिवार को भी नहीं आए तब किसानों ने तहसीलदार से गुहार लगाई जिसके बाद तहसीलदार प्रियंका चौरसिया की समझाइश से सभी किसान शांत हुए एवं बारदान आने का इंतजार अपनी फसल लेकर कर रहे हैं। इस संबंध में जब जिला विपणन अधिकारी नीरज भार्गव से चर्चा करनी चाही गई तो उन्होंने फोन उठाना जरूरी नहीं समझा। तहसीलदार चौरसिया ने बताया की शासन को किसानों की पल-पल की समस्या की जानकारी हम उपलब्ध करा रहे हैं एवं हर विषय पर उच्च अधिकारियों से चर्चा की जा रही है। जल्द ही समस्या का समाधान कर तुलाई कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

Chandraprakash Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned