महाराष्ट्र से लौटी युवती, नवीन फ्लोरीन-पैरीवियर रोका कंपनी के कर्मचारियों व शुगर पीडि़त महिला पॉजिटिव

तीन नए मरीज कार्तिकनगर में उस महिला के किराएदार-पड़ोसी हैं जो कुछ दिन पहले मिली थी पॉजिटिव
रेवाबाग में पूर्व संक्रमित चना-परमल दुकान संचालक मरीज के परिवार की बुजुर्ग महिला भी शामिल
जिले में चार कंटेनमेंट एरिया हुए समाप्त, शहर में एक नया एरिया बढ़ा, संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 93

By: Chandraprakash Sharma

Published: 28 May 2020, 05:29 PM IST

देवास। जिले में कोरोना संक्रमण का असर लगातार बढ़ता जा रहा है। सबसे अधिक संक्रमित मरीज शहर से ही मिल रहे हैं, अंचल के गांव भी अछूते नहीं रह गए हैं। बुधवार को फिर से पांच कोरोना संक्रमित मरीजों की पुष्टि हुई, ये सभी शहर के ही रहने वाले हैं। इन मरीजों में पिछले दिनों महाराष्ट्र से लौटी सराफा व्यापारी की बेटी, पैरीवेयर रोका व नवीन फ्लोरीन कंपनी के दो कर्मचारियों सहित दो अन्य महिलाएं शामिल हैं। दो महिलाओं में से एक शुगर पीडि़त है वहीं दूसरी पूर्व संक्रमित परिवार की बुजुर्ग महिला है। पांच नए मरीजों को मिलाकर देवास जिले में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर ९३ हो गई है। इनमें से २९ एक्टिव केस हैं। एक दिन के अंतराल के बाद बुधवार को ५७ कोरोना संदिग्ध मरीजों की रिपोर्टं आई। इसमें से ५२ नेगेटिव रहीं जबकि पांच नए संक्रमित मरीजों की पहचान हुई। इन मरीजों में यशवंत कॉलोनी मोती बंगला निवासी २० साल की युवती शामिल है जो सराफा व्यापारी की बेटी है।
जानकारी के अनुसार यह १५ मई को अपने पिता के साथ विरार ठाणे से लौटी थी। युवती के पिता की सराफा दुकान नॉवेल्टी चौराहा क्षेत्र के पास है। तीन मरीज कार्तिकनगर के हैं जिनमें से एक २८ साल का युवक है जो नवीन फ्लोरीन कंपनी में काम करता है। यह जिस मकान में किराए से रहता है उसकी मालकिन कुछ दिन पहले ही कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी। युवक के परिवार में सात सदस्य हैं। इसी क्षेत्र की ४२ साल की महिला भी कोरोना संक्रमित मिली जो शुगर पीडि़त भी है। इनके घर से आसपास ही रहने वाला ४२ साल का युवक भी संक्रमित निकला है जो पैरीवेयर रोका कंपनी में काम करता है। इसके परिवार में पांच सदस्य हैं। इसके अलावा रेवाबाग में ६५ साल की महिला संक्रमित पाई गई है जिसके परिवार का सदस्य कुछ दिनों पहले पॉजिटिव मिला था। इनका परिवार चना-परमल की दुकान संचालित करता है। इनमें से बुजुर्ग महिला को छोड़कर अन्य सभी की कॉन्टेक्ट हिस्ट्री अधिक लंबी होने की आंशका है। नए मरीजों की पुष्टि के बाद तीनों ही स्थानों पर सेनेटाइजेशन, स्क्रीनिंग का काम टीमों द्वारा किया गया। वहीं यशवंत कॉलोनी मोती बंगला में बेरेकेडिंग करके नया कंटेनमेंट एरिया बनाया गया। बुधवार को ५९ और संदिग्ध मरीजों के नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं। इनको मिलाकर अब ११३ रिपोर्ट आना शेष है। जिले में कोरोना से ९ मरीजों की मौत अब तक हुई है वहीं ५५ स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो चुके हैं।
यशवंत कॉलोनी एपिसेंटर घोषित, आवागमन पूर्ण रूप से प्रतिबंधित
कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ. श्रीकान्त पाण्डेय ने मप्र पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949 की विभिन्न धाराओं में निहित शक्तियों का उपयोग करते हुए कंटेनमेंट एरिया घोषित करने का आदेश जारी किया है। इसके अनुसार यशवंत कालोनी देवास को एपिसेंटर घोषित करते हुये सभी घरों की 3 किलोमीटर की परिधि में आने वाले क्षेत्र को कंटेनमेंट एरिया घोषित किया है। इस क्षेत्र के समस्त घरों का सर्वे निर्धारित प्रपत्र में अनिवार्यत किया जाएगा। इससे लगे 5 किलोमीटर की परिधि के अतिरिक्त क्षेत्र को बफर जोन भी घोषित किया है। कंटेनमेंट ऐरिया के अंतर्गत पूर्ण रूप से आवागमन प्रतिबंधित रहेगा। इस क्षेत्र के रहवासियों को होम कोरेंटाईन में रहना आवश्यक होगा। कन्टेनमेंट एरिया से 2 किलोमीटर की परिधि का भी कन्ट्रोल किया जाना अनिवार्य होगा। जिसके अंतर्गत आवश्यक सुविधाओं के अतिरिक्त किसी भी प्रकार से लोगों का बाहर जाना प्रतिबंधित रहेगा। कन्टेनमेंट एरिया हेतु सी.एम.एच.ओ. द्वारा विशेष आरआरटी.जिसके अंतर्गत एक फिजिशियन, एक एपीडिमियोलाजिस्ट, पेथालाजिस्ट, माइक्रोबायोलाजिस्ट, डाक्यूमेंटेशन स्टॉफ रखा जाना होगा व मेडिकल मोबाईल यूनिट, जिसके अंतर्गत एक मेडिकल ऑफिसर, एक पैरामेडिकल स्टॉफ, लेब टेक्निशियन व डॉक्यूमेंटेशन स्टॉफ का गठन किया जायेगा। उक्त क्षेत्र के एक्जिट पाईट पर स्वास्थ्य कर्मचारियों द्वारा सतत स्क्रीनिंग की जायेगी।

Chandraprakash Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned