डीपी पर लाइन सुधार रहे हेल्पर को लगा करंट झुलसकर गिरा नीचे

बिना सुरक्षा किट के डाल रहे जोखिम में जान

By: Chandraprakash Sharma

Published: 14 Jun 2020, 05:42 PM IST

देवास/ पानीगांव। विद्युत वितरण कंपनी उपखंड कार्यालय पानीगांव का एक हेल्पर शनिवार सुबह लाइन सुधारते समय करंट की चपेट में आ गया और तेज धमाके के साथ नीचे गिराए जिसे गंभीर अवस्था में सिविल अस्पताल कन्नौद और बाद में इंदौर रेफर किया गया है।
शनिवार सुबह 10 बजे पानीगांव स्थित उपखंड कार्यालय का एक हेल्पर धनसिंह डावर (32) निवासी बावड़ी खेड़ा लाइन सुधारने के लिए सेवा सहकारी संस्था के पास स्थित ट्रांसफॉर्मर पर चढ़ा थाए जब उसने एलटी केबल को पकड़ा तो तेज धमाके के साथ केबल जल गई और हेल्पर झुलस कर नीचे गिर गया। गनीमत रही कि वह नीचे गिरा अन्यथा केबल में उलझा रहता तो बड़ी दुर्घटना घट सकती थी।
घटना के तत्काल बाद उसे गंभीर अवस्था में पहले सिविल अस्पताल कन्नौद और वहां से इंदौर रेफर किया गया। जानकारी मिलने के 1 घंटे के बाद कनिष्ठ यंत्री मौके पर पहुंचे जब इस संबंध में कनिष्ठ यंत्री नरेंद्र बेले से फोन पर चर्चा करने की कोशिश की गई तो उन्होंने हमेशा की तरह फोन नहीं उठाया। पानीगांव विद्युत कंपनी के विद्युत कर्मी एवं हेल्पर बिना सुरक्षा कीट के जान जोखिम में डालकर काम करते नजर आते हैं। स्थानीय गांव की विद्युत व्यवस्था पूरी तरह ध्वस्त पड़ी हुई है। बार-बार केबल का टूटना आम बात है। शुक्रवार दोपहर भी बैंक के सामने एलटी के तार टूट कर लटक गए। गनीमत रही कि नीचे नहीं गिरे वरना बड़ी संख्या में बैंक के ग्राहक खड़े हुए थे। पानी गांव क्षेत्र में बारण्बार बिजली का जाना आम बात है कनिष्ठ यंत्री नरेंद्र बेले से जब भी बात करने की कोशिश की जाती है या तो उनका फोन बंद मिलता है ।
ट्रांसफॉर्मर के खंभे के तार में करंट लगने से बैल की मौत
कुसमानिया. बारिश का मौसम शुरू होते ही करंट लगने की घटनाएं बढऩे लगी हैं। ग्राम थूरिया के किसान श्रीराम मीणा के घर के पास लगे ट्रांसफार्मर के खंभे के तार में करंट आने से इसकी चपेट में आकर एक बैल की मौत हो गई। सरपंच-सचिव ने मौके पर पहुंचकर पंचनामा बनाया। जानकारी के अनुसार शुक्रवार शाम करीब 7-8 बजे किसान श्रीराम पिता लक्ष्मीनारायण मीणा निवासी थूरिया के घर के पास लगे ट्रांसफार्मर के तार में करंट आने से बैल की मौत हुई। बैल की कीमत करीब 20 हजार रुपये बताई गई है। गनीमत यह रही कि कोई ग्रामीण ट्रांसफॉर्मर के आसपास नहीं गए अन्यथा जनहानि भी हो सकती थी। ग्रामीणों ने बिजली कंपनी के अधिकारियों से व्यवस्था दुरुस्त करने की मांग की है ताकि भविष्य ऐसी घटना की पुनरावृत्ति न हो।

Chandraprakash Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned