गेहूं का पंजीयन नहीं होने से किसान आक्रोशित, भाजपा करेगी आंदोलन

गेहूं का पंजीयन नहीं होने से किसान आक्रोशित, भाजपा करेगी आंदोलन

By: हुसैन अली

Published: 07 Feb 2019, 04:14 PM IST

कांटाफोड . प्रशासन ने गेहूं के पंजीयन की अंतिम तिथि 23 फरवरी तो घोषित कर दी है। मगर किसानों का फसल विक्रय के लिए पंजीयन कहां होगा यह अभी तक निश्चित नहीं हुआ है। जिस कारण आसपास के ग्रामीण किसान काफी परेशान व आक्रोशित नजर आ रहे है। यह जानकारी देते हुए भाजपा के पूर्व जिला अध्यक्ष महेश दुबे व किसान मोर्चा के पुरुषोत्तम बियाणी ने बताया कि किसानों की वर्तमान रबी फसल पक कर तैयार हो चुकी है।

अब किसान समर्थन मूल्य पर गेहूं विक्रय करने के लिए पंजीयन कराने के लिए जगह-जगह चक्कर लगा रहे है। मगर किसान की इस समस्या का कोई हल नहीं निकल रहा है। किसान नेता रतनलाल गोमलाडू व भाजपा मंडल महामंत्री रणछोड़ किराडे ने कहा कि एक और तो प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने किसानों की कर्ज माफी के लिए अलग-अलग फार्म भरवाने के चक्कर में कर्मचारियों को उलझा रखा है ।

वहीं दूसरी ओर वही किसान फसल बेचने के लिए पंजीयन कराने के लिए भटक रहे हैं । इन्होंने कहा कि या तो सरकार पुराने जो पिछले वर्ष के किसानों के पंजीयन हुए है। उन्हें यथावत कर समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदे। वही किसान मोर्चा के मंडल अध्यक्ष दीपचंद गवली ,पिंटू सुराना ,जगदीश प्रसाद शर्मा ने सरकार से किसानों कि फसलों का शीघ्र पंजीयन कार्य शुरू करने या पुराने पंजीयन को मान्य करने के आदेश दिए जाए, अन्यथा अन्नदाताओं की परेशानी को देखते हुए भाजपा किसानों को साथ लेकर आंदोलन करेगी।

आदेश नहीं आया

-किसी कारणवश कांटाफोड़ क्षेत्र की पांचों सेवा सहकारी संस्थाओं में किसानों के गेहूं का पंजीयन करने के लिए आदेश नहीं आया है।

-एस एल मौर्य, शाखा प्रबंधक, जिला सहकारी बैंक, कांटाफोड़

प्रस्ताव शासन को भेजा है

-किसानों के गेहूं समर्थन मूल्य पर विक्रय के लिए पंजीयन के लिए हमने कांटाफोड़ व लोहारदा संस्था को पंजीयन केंद्र बनाने का प्रस्ताव शासन को भेजा है ।संभवत: एक दो दिनों में दोनों स्थानों पर पंजीयन प्रारंभ हो जाएगा तब तक यदि किसान चाहे तो कन्नौद मे अपनी फसल का पंजीयन करा सकता है।

-शालू वर्मा, जिला खाद्य अधिकारी, देवास

BJP
हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned