बुलेट पर खड़े होकर युवती ने दोनों हाथों से लहराई तलवार, नजारा जिसने भी देखा रह गया दंग

राधा गंज स्थित युवा क्लब नव दुर्गा उत्सव समिति में आयुषी चौहान ने बुलेट के ऊपर किया तलवार रास गरबा, शहरभर में हो रही कलाबाजी की प्रशंसा।

By: Faiz

Published: 13 Oct 2021, 04:11 PM IST

देवास. जैसे-जैसे नवरात्र के दिन अपने समापन की ओर बढ़ रहे हैं, वैसे-वैसे भक्तों में माता की भक्ति भी अपने चरम की ओर बढ़ती जा रही है। हालांकि, काेराेना के संदेह के चलते इस बार विशाल गरबा का आयोजन तो नहीं हो सका है, लेकिन माता पंडाल में लाेग छोटे-छोटे समूहों में बटकर गरबा कर रहे हैं। इस दाैरान गरबा पंडालों में कलाबाजी के भी एक से एक नमूने देखने को मिल रहे हैं। ऐसा ही एक नजारा मंगलवार रात को देवास के युवा क्लब राधागंज द्वारा आयोजित गरबा रास में देखने को मिला, ये गरबा रास जिसने भी देखा, वो दंग रह गया। दरअसल, यहां आयुषी चौहान नामक 19 वर्षीय कॉलेज छात्रा ने बुलेट और स्चूल पर खड़े होकर दोनों हाथों से तलवारबाजी का हुनर दिखाया। युवती की ये कलाबाजी जिसने भी देखी, उसने दांतों तले उंगलियां दबा लीं।

 

शहर के राधागंज की रहने वाली 19 वर्षीय आयुषी पुत्री मुक्तानंद चौहान तलवारबाजी में जौहर दिखा रही है। चार साल पहले उसने इंटरनेट पर तलवार बाजी करते हुए कुछ क्षत्राणियों को देखा था। इसे देखकर उसके मन में तलबारबाजी में करने की इच्छा जागी। उसने इंटरनेट पर वीडियो देखना शुरू किया। कुछ दिनों तक प्रेक्टिस करने के बाद उसे तलवार चलानी आने लगी। अब आयुषी इतना एक्सपर्ट हो गई है कि, एक नहीं दो-दो तलवार घुमाने में सक्षम है। आयुषी की माने तो, वो अभी केपी कॉलेज से बीबीए की पढ़ाई कर रही है। उसकी एमबीए करने की इच्छा है। आयुषी के पिता मुक्तानंद शासकीय बैंक में कर्मचारी हैं। वहीं, उनकी मां गृहणी है। एक भाई अभिषेक चौहान फॉर्मेसी पढ़ रहे हैं।

 

पढ़ें ये खास खबर- जब अचानक गाड़ी के सामने आ गया Tiger, वाहन सवारों की अटक गई सांसें, वीडियो Viral


करनी सेना से भी जुड़ी हैं आयुषी

तलवारबाजी में माहिर आयुषी के पास करनी सेना कॉलेज ईकाई अध्यक्ष भी हैं। आयुषी के अनुसार, राजपूत समाज में महिलाएं वैसे ही तलवारबाजी में महारत रखती हैं। उन्होंने बताया कि, उन्होंने राजस्थान में कई युवतियों को देखा है, जो इस तलवारबाजी की विधा में एक से बढ़कर एक प्रस्तुति देती हैं। उनसे प्रेरणा लेकर मैंने ये प्रयास किया है। इसमें में सफल रही। अगर समाज मुझे मौका देगा, तो में अन्य युवतियों को भी तलवारबाजी की कला सिखाने का प्रयास करूंगी।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned