दर्जनों घोषणाओं के बाद भी नहीं हो पाई हाईस्कूल की बाउंड्रीवॉल

- स्कूल में पढ़ रही 200 छात्राएं

चापड़ा. क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों की निष्क्रियता के चलते वर्षों बीत जाने के बाद भी हायर सेकंडरी स्कूल श्यामनगर की बाउंड्रीवाल नहीं हो पाई। हालाकि जब भी जनप्रतिनिधि नगर में आते हैं तो वे हर बार बाउंड्रीवॉल की मांग पर जल्द ही बाउंड्री निर्माण के लिए राशि देने की घोषणा कर जाते हैं, लेकिन घोषणा करने के बाद इस ओर ध्यान नहीं देते। बाउंड्रीवॉल नहीं होने से विद्यालय में पढऩे वाले छात्र-छात्राएं असुरक्षित महसूस करते है। हायर सेकंडरी स्कूल में वर्तमान में लगभग 350 विद्यार्थी अध्ययनरत है, जिसमें लगभग 200 छात्राएं है। बाउंड्रीवाल नहीं होने के कारण असामाजिक तत्वों विद्यालय के आसपास मंडराते हुए नजर आते है। छुट्टी होने के बाद भी असामाजिक तत्वों के लोगों का डेरा उक्त विद्यालय में देखा जा सकता हैं, कोई पत्ती खेलता है तो कोई शराबखोरी करता है। नगर के समाजसेविकों द्वारा भी जनप्रतिनिधियों से कई बार स्कूल की बाउंड्रीवॉल के लिए गुहार लगाई लेकिन सिर्फ उन्हें भी आश्वासन ही मिला हैं। वही विद्यालय की माने तो वह भी लगातार लिखित में विभाग एवं जनप्रतिनिधियों से बाउंड्रीवॉल की मांग करते आ रहे हैं, लेकिन उन्हें भी सिर्फ आश्वासन ही अभी तक मिले है। जिम्मेदारों की उदासीनता के चलते उक्त विद्यालय आज भी असुरक्षित है। निर्मला कारपेंटर, किरण नामदेव का कहना हैं की विद्यालय में छात्राओं की संख्या अधिक है ओर विद्यालय व वहां पढने वाले छात्र-छात्राओं की सुरक्षा के लिहाजे से विद्यालय की बाउंड्रीवाल होना अति आवश्यक है। वही मुकेश जायसवाल, मुकेश विश्वकर्मा, राजेश दुग्गड़ ने बताया की जिम्मदारों को इस ओर ध्यान देना चाहिए ओर जल्द ही बाउंड्रीवाल के लिए राशि जारी करना चाहिए, क्योंकि प्रदेश में जिस प्रकार की घटनाएं घट रही हैं उससे सीख लेकर विद्यालय की बाउंड्री सब से पहले होना चाहिए।
वर्जन- विद्यालय में छात्राओं की संख्या अधिक है। उनकी सुरक्षा के तौर पर सीसीटीवी कैमरे तो विद्यालय में लगाए गए है, लेकिन विद्यालय की बाउंड्रीवाल होना अति आवश्यक हैं, हमारी ओर से भी बाउंड्रीवाल के लिए विभाग को लगातार मांग पत्र भेजकर राशि की मांग की जा रही हैं।
मृत्युंजय कुमार
प्राचार्य हायर सेकंडरी, चापड़ा

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned