28 अक्टूबर तक मान जाओ, नहीं तो कर देंगे तख्ता पलट, देखे वीडियो

28 अक्टूबर तक मान जाओ, नहीं तो कर देंगे तख्ता पलट, देखे वीडियो

amit mandloi | Publish: Sep, 06 2018 01:02:11 PM (IST) Dewas, Madhya Pradesh, India

- एसडीएम मंच पर आवेदन लेने नहीं आई तो गोमाता को सौप दिया आवेदन

देवास. मंदसौर में पुलिस की गोली से मारे गए किसानों को सरकार न्याय नहीं देना चाहती हैं। अगर नीयत साफ होती तो जांच का जिम्मा उन्हें ही नहीं मिलता जो इसमें दोषी हैं। हमने किसानों के अधिकारों के लिए सरकार से 28 बिंदुओं का मांग पत्र रखा हैं। इसमें मंदसौर गोलीकांड के दोषियों को सजा देना भी शामिल हैं। ये बाते अन्नदाता अधिकार यात्रा लेकर शहर में पहुंचे शिवकुमार (कक्काजी) ने कही। राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के बैनर तले 15 अगस्त से दलौदा मंदसौर से शुरू हुई अधिकार यात्रा एक दर्जन से अधिक चार पहिया वाहनों के साथ शिप्रा से शहर में प्रवेश किया। वाहनों में अधिकांश छोटे लोडिंग वाहन शामिल थे, जिन पर अलग-अलग बैनरों में केंद्र व राज्य सरकार की नाकामियों का उल्लेख किया गया था। कक्काजी ने कहा कि हम लंबे समय से किसानों के अधिकार की लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्होंने मप्र की भाजपा सरकार को अब तक की सबसे भ्रष्ट सरकार बताते हुए कहा कि इन्होंने किसानों से वादे के सिवाए कुछ नहीं किया हैं। कोई ऐसी योजना नहीं उतारी जिससे किसानों को फायदा मिलता। वहीं केंद्र सरकार की वादा खिलाफी भी विस्तार से बताई।

किसानों पर गोलियां चलाने वाले ही कर रहे दोषियों की जांच

सोनकच्छ. चिलचिलाती धूप, कड़कती ठंड व भारी बारिश में धरती माता का सीना चीरकर अन्नदाता अन्नदेव को पैदा करता है, उसी अन्नदाता के वोट पाने के लिए भाजपा ने गत लोकसभा के चुनाव में अपने घोषणा पत्र में किसानों को फसल की लागत का डेढ़ गुना लाभकारी मूल्य देने की घोषणा की थी और करीब 150.200 चुनावी सभाओं में खुद मोदीजी ने अपने भाषण के दौरान लाभकारी मूल्य देने का वादा किया था, जिस पर विश्वास कर देश के 14 करोड़ अन्नदाताओं ने अपना वोट दिया और सरकार बनने के बाद जब मांग पूरी करने के लिए मोदीजी से कहा तो मोदीजी अपने वादे से यह कहते हुए मुकर गए कि सरकार की आर्थिक स्थिति ठीक नही है।

केंद्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद 28 किसान विरोधी निर्णय लिए गए वही 100.150 उद्योगपतियों के हित में निर्णय लिए गए। यह बात राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा कक्काजी ने कही। कक्काजी बुधवार को महासंघ द्वारा किसानों के अधिकारों एवं मांगों के निराकरण के लिए 15 अगस्त से निकाली जा रही हैं। 75 दिवसीय अन्नदाता अधिकार यात्रा के सोनकच्छ पहुंचने पर स्थानीय बस स्टैंड पर आयोजित एक सभा को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार गेंहू, चना, शकर, तुअर आदि चीजे विदेशों से मंगाने का निर्णय लिया है तो मोदीजी अब वोट भी विदेशों से ही ल मंगा ले। उन्होंने भावांतर योजना को लूट योजना तथा फसल बीमा योजना को डकैत योजना बताया। कक्काजी ने आगे बताया कि पहले तो कांग्रेस ने 58 सालों तक किसानों को लूटा तो वह साफ हो गई फिर भाजपा ने 15 सालों तक लूटा और अब वह भी साफ हो जाएगी।

28 को भोपाल पहुंचने की अपील की

कक्का जी ने मंच से सभा में उपस्थित सैकड़ों किसानों से आगामी 28 अक्टूबर को भोपाल पहुंचने की अपील करते हुए कहा कि इस दिन ऐतिहासिक निर्णायक लड़ाई लड़ी जाएगी, जिसमें किसानों की 12 सूत्री मांगों के निराकरण के लिए मुख्यमंत्री को आवेदन सौंपा जाएगा। अगर प्रदेश सरकार ने मांगों पर आदेश नहीं दिया तो हम सरकार पलट देंगे। इसके बाद अन्नदाता तय करेगा सरकार किसकी बनेगी। सभा को प्रांतीय अध्यक्ष त्रिलोक गोठी, प्रदेश अध्यक्ष देवनारायण पटेल, राष्ट्रीय संगठन मंत्री रविदत्त सिंह, युवा इकाई के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल राज ने भी संबोधित किया। सभा के बाद उपस्थित किसानों से स्वेच्छा से यात्रा के डीजल खर्च के लिए संघ के पदाधिकारियों ने झोली फैलाकर दान लिया। सभा के बाद अपनी 12 सूत्री मांगों का मुख्यमंत्री के नाम आवेदन संघ एसडीएम नीता राठौर को मंच पर ही सौंपना चाहता था, लेकिन राठौर उपस्थित नहीं हो सकी। जिससे नाराज होकर किसानों ने उक्त आवेदन सभा स्थल पर खड़ी एक गोमाता को सौंप दिया।

अगले पड़ाव पर रवाना हुई यात्रा

 

 

इसके बाद यात्रा के आगे दो पहिया वाहनों पर सवार किसानों ने एक वाहन रैली निकाली जो गंधर्वपुरी फाटे पर स्वल्पाहार के बाद समाप्त हुई और यात्रा अपने अगले पड़ाव पर आष्टा के लिए रवाना हो गई। सभा का संचालन जिला महामंत्री राजेन्द्रसिंह नाहर ने किया तथा आभार तहसील अध्यक्ष महेश पाटीदार ने माना। यात्रा में शामिल कक्काजी का नगर में अभिभाषक संघ व कई लोगों द्वारा स्वगात किया गया। इस अवसर पर प्रदेश, संभाग, जिले व तहसील के पदाधिकारियों सहित क्षेत्र से आए सैकड़ों किसान उपस्थित थे। अनुविभागीय कार्यालय के बाहर एमजी रोड पर दो नायब तहसीलदार राजभानसिंह कुशवाह व रुचि गोयल आवेदन लेने के लिए खड़े रहे, लेकिन पदाधिकारियों ने आवेदन देने से मना कर दिया।

dewas
patrika IMAGE CREDIT: patrika
Ad Block is Banned