scriptLeopard found in sick condition | जंगल के माहौल में रम नहीं पा रहा 'रामू', फिर बीमार हालत में मिला तेंदुआ | Patrika News

जंगल के माहौल में रम नहीं पा रहा 'रामू', फिर बीमार हालत में मिला तेंदुआ

locationदेवासPublished: Feb 01, 2024 03:18:11 pm

Submitted by:

Ashtha Awasthi

देवास। वन परिक्षेत्र पुंजापुरा अंतर्गत पोलाखाल बीट में एक तेंदुआ बीमार अवस्था में मिला। उसे रेस्क्यू कर उपचार के लिए वन्य प्राणी संग्रहालय इंदौर भेजा गया है। पोलाखाल में बीट में सबसे पहले चरवाहे ने तेंदुए को देखकर इसकी सूचना बीटगार्ड को दी।

capture_2.png
Leopard

सूचना पर बीटगार्ड ने परिक्षेत्र अधिकारी नाहरसिंह भूरिया को दी। परिक्षेत्र अधिकारी ने वन स्टाफ भेजकर वरिष्ठ अफसरों को जानकारी दी। इसके बाद रेस्क्यू टीम ने तेंदुए का रेस्क्यू किया। उदयनगर के पशु चिकित्सक डॉ आलोक जैन ने तेंदुए का उपचार किया। बीमार हालत के कारण तेंदुए को बाद में वन्य प्राणी संग्रहालय इंदौर भेज दिया गया।

लकवे की आशंका

तेंदुए को चलने में दिक्कत हो रही थी। घायल भी था। पशु चिकित्सक डॉ. जैन ने उपचार के बाद तेंदुए के पिछले पैरों में लकवे की आशंका बताई है। इसी के चलते उसे इंदौर वन्य प्राणी संग्रहालय भेजा गया है। उधर करीब पांच माह पूर्व सोनकच्छ के इकलेरा क्षेत्र में बीमार हालत में मिले तेंदुए रामू को भी वन्य प्राणी संग्रहालय भेजने पर विचार किया जा रहा है। 29 अगस्त 2023 को इकलेरा के समीप तेंदुआ बीमार हालत में मिला था।

उस समय वह एक पालतु मवेशी की तरह बर्ताव कर रहा था। उसे उपचार के लिए वन्य प्राणी संग्रहालय इंदौर भेजा गया था जहां जांच में उसे केनाइन डिस्टेंपर नामक बीमारी होने की बात सामने आई थी। इससे उसकी याददाश्त प्रभावित हुई थी। इंदौर के बाद उसे करीब चार माह दौलतपुर विश्राम गृह पर रखकर उपचार किया गया।

न शिकार कर रहा है न घूम रहा रामू

ठीक होने के बाद 18 दिसंबर को उसे खिवनी के जंगल में छोड़ा लेकिन तेंदुआ रामू वहां जंगल के माहौल में रम नहीं पा रहा है। लगातार मॉनीटरिंग के बाद यह बात सामने आई कि वह न शिकार कर रहा है न जंगल में ज्यादा घूम रहा है। ऐसे में अब वन अफसर उसे चिडिय़ाघर में भेजने पर विचार कर रहे हैं। इस संबंध में डीएफओ ने प्रस्ताव बनाकर भी भेजा है।

ट्रेंडिंग वीडियो