VIDEO दो रजत रथ पर विराजित होकर शहर भ्रमण पर निकले भगवान महावीर

Amit S mandloi | Publish: Apr, 17 2019 08:58:51 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 08:58:52 PM (IST) Dewas, Dewas, Madhya Pradesh, India

- शोभायात्रा में मतदान का दिया संदेश

देवास. जियो और जिने दो का अमर संदेश देकर दुनिया को अहिंसा का पाठ पढ़ाने वाले जैन जगत के 24 वे तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामीजी का जन्म कल्याणक दिवस महावीर जयंती देवास नगर के समग्र जैन समाज द्वारा अपूर्व उत्साह व हर्षोल्लास के साथ मनाई गई। इस महोत्सव में देवास के सभी धर्म, वर्ग व सम्प्रदाय के लोगों ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया। जिसके परिणाम स्वरूप यह कार्यक्रम संपूर्ण शहरवासियों का एक धार्मिक उत्सव निरूपित हुआ। मक्सी के प्रसिद्ध बैंड एवं नासिक के करतब युक्त ढोल की धुन पर नवयुवकों की टोली थिरकते व नृत्य करते हुए चल रही थी।

श्रद्धालुओं ने महावीर प्रभु के जन्मोत्सव की खुशीयां झूूमते-नाचते गातेे हुए मनाई। रजत चांदी के दो सुसज्जित रथ में बैठकर जब भगवान महावीर स्वामी शहर भ्रमण पर शोभा.यात्रा के साथ निकले तो श्रीफल एवं अक्षत से अपने प्यारे प्रभु की अगवानी के लिए श्रद्धालु दौड़े चले आए। शोभा यात्रा में दो चांदी के रथ एक श्वेताम्बर मंदिर एवं एक दिगम्बर जैन मंदिर से निकले। इसकी छटा से संपूर्ण शहर महावीरमय बन गया। इस अवसर पर शोभायात्रा का मार्ग में अनेक धार्मिक, सामाजिक, व्यापारिक एवं राजनीतिक संस्थाओं ने स्वागत किया। महावीर जयंती की पूर्व संध्या पर देवास के सभी जैन संघों की महिलाओं द्वारा यादे महावीर की नामक नृत्य व भक्ति निशा का मंचन किया गया। भगवान महावीर की सजी हुई झांकियां आकर्षण का केन्द्र बनी हुई थी। शोभायात्रा के अंतिम छोर पर एक विशेष वाहन की व्यवस्था की गई जिसमें शोभायात्रा में उपयोग किए गए डिस्पोजल एवं फूलों को एकत्रित करके स्वच्छ भारत, सुंदर देवास, स्वस्थ समाज का संदेश नगरवासियों को दिया गया।

इस आयोजन में समिति के अध्यक्ष दीपक जैन, महासचिव शैलेन्द्र चौधरी व पदाधिकारी विलास चौधरी, भरत चौधरी, अतुल जैन, पारस जैन, अरूण मूणत, अशोक जैन मामा, अजय संघवी, राजेश जैन, संजय कटारिया, अरविंद जैन मामा, मुकेश चौधरी, राकेश तरवेचा, विमल रॉका, मनीष जैन ने सहयोग प्रदान किया। महावीर जयंती के उपलक्ष्य में नगर के सभी जैन मंदिरों में अनेक विशेष धार्मिक अनुष्ठानों का आयोजन हुआ। जैन धर्मावलंबियों ने अपने निवास स्थान पर केशरिया ध्वज फहराए तथा दीपक जलाये। साथ ही सभी जैन मंदिरों पर आकर्षक विद्युत सज्जा की गई।

आकर्षक शोभायात्रा का नजारा

मुख्य शोभायात्रा व कलश यात्रा प्रात 8.30 बजे शंखेश्वर पाश्र्वनाथ मंदिर तुकोगंज रोड से निकाली गई। शोभायात्रा में हजारों की संख्या में महिलाएं, पुरुष तथा बच्चें शामिल थे। नव युवक व नवयुवतियों ने विशेष परिधान धारण किए थे। जनसमुदाय को समाहित किए हुए यह शोभायात्रा अनेक आकर्षणों से सुसज्जित थी। सबसे आगे अश्वारोही दल केशरिया ध्वज थामे चल रहा था। नवयुवकों में अपूर्व उत्साह था, जो देखते ही बनता था। बालिकाएं आकर्षक डांडिया रास प्रस्तुत कर रही थी। महिलाओं की विशाल संख्या मस्तक पर 108 कलश लेकर कतारबद्ध चल रही थी। प्रवक्ता विजय जैन ने बताया कि इसके बाद चांदी के दो सुसज्जित रथ में विराजमान थे प्रभु महावीर स्वामी। भगवान की एक झलक पाने के लिए श्रद्धालुओं में होड़ लगी हुई थी। प्रभु की मनोहारी प्रतिमा झांकी नगरवासियों का मन मोह रही थी। सम्पूर्ण वातावरण भगवान महावीर की जय.जयकार एवं भगवान महावीर का अमर संदेश जियो और जिने दो के नारों से गुंजायमान हो रहा था। महिलाओं का समूह मंगल गीत गाते हुए चल रहा था।

dewas
mayur vyas IMAGE CREDIT: mayur vyas

श्रमण संस्कृति सदन नयापुरा पर समाप्त हुई

शोभायात्रा वर्धमान जैन स्थानक, आदेश्वर मंदिर बड़ा बाजार, आदिनाथ चौक, पाश्र्वनाथ दिगम्बर मंदिर कवि कालिदास मार्ग, चन्दाप्रभु मंदिर, एमजी रोड, चन्दाप्रभु माणिभद्र मंदिर सुतार बाखल, जवाहर चौक, शंखेश्वर पाश्र्वनाथ मंदिर होकर श्रमण संस्कृति सदन नयापुरा पर समाप्त हुई। श्रमण संस्कृति सदन में श्रीजी का अभिषेक हुआ। रात्रि को सभी जैन मंदिरों में महाआरती व भक्ति भावना के विशेष कार्यक्रम आयोजित किए गए। शांतिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर आवास नगर एवं आदिनाथ दिगम्बर जैन मंदिर अलकापुरी से भी कलश यात्रा निकाली गई।

dewas
patrika IMAGE CREDIT: patrika

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned