मजदूर को नहीं मिली एंबुलेंस, लोडिंग में ले गए अस्पताल

नगर निगम के नए लभवन से भरभरा कर गिरी ईंट

 

देवास. नगर निगम के नए भवन में निर्माण के दौरान महिला मजदूर के उपर ईंट गिरी। गंभीर हालत में उसे एमजी अस्पताल लाया गया है। एमजी अस्पताल आने के बाद भी हद दर्जे की लापरवाही सामने आई। महिला को ले जाने के लिए स्टे्रचर भी नहीं मिल पाया, जबकि एक दिन पहले शुक्रवार की रात में कलेक्टर आशीषसिंह दौरा करके गए थे। दौरे के समय उन्होंने अस्पताल में पुख्ता व्यवस्था करने के निर्देश भी दिए थे, लेकिन प्रबंधन शनिवार को फिर लापरवाह नजर आया है।

महिला संगीता पिता शांतिलाल उम्र 18 वर्ष है। महिला राजस्थान के प्रतापगढ़ की निवासी बताई जा रही है। संगीता के भाई कैलाश ने बताया कि सुबह हम लिफ्ट से ईंट चढ़ा रहे थे। लिफ्ट उपर जाने के बादअचानक तिरछी हो गई और भरभराकर ईंट संगीता के उपर गिर गई। ईंट गिरने से महिला बेहोश हो गई, जिसे निगम के लोडिंग वाहन में बैठाकर एमजी अस्पताल लाए गए। जहां महिला का प्राथमिक उपचार जारी है। महिला के हालचाल जानने के लिए कोई अधिकारी नहीं पहुंचा है।

महिला को ले जाने के लिए स्टे्रचर नहीं मिल पाया , जिसके चलते महिला को गोदी में उठाकर ले जाना पड़ा। इसके पूर्व भी निगम आयुक्त के नए भवन का छज्जा गिर गया था, जिसकी जांच तक नहीं हो पाई है। वहीं महापौर और आयुक्त खुद के निर्माण पर ध्यान नहीं दे पा रहे है बताया जाता है इन मजदूरों को राजस्थान से लाया गया था।

देवास में बाहर से आकर मजदूरी करने वालों को एमजी अस्पताल में स्ट्रेचर भी नसीब नहीं होता है। शनिवार को महिला के उपर नगर निगम के नए भवन में मजदूरी करने के दौरान ईंटे गिर गई। हालात यह रही कि उसे लोडिंग वाहन में डालकर अस्पताल लाना पड़ा। कलेक्टर के दौरे के दूसरे दिन ही अस्पताल की पोल खुलकर सामने आ गई है। महिला को एमजी अस्पताल में उपचार दिया जा रहा है।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned