सनसीखेज : चुनाव से पहले कांग्रेस के बड़े नेता की निर्मम हत्या, पार्टी में हडक़ंप

सनसीखेज : चुनाव से पहले कांग्रेस के बड़े नेता की निर्मम हत्या, पार्टी में हडक़ंप

By: हुसैन अली

Updated: 05 Apr 2019, 11:28 AM IST

देवास/पीपरी. जिले की बागली विधानसभा में कांग्रेस के बड़े आदिवासी नेता के रूप में पहचाने जाने वाले बागली के पूर्व मंडी अध्यक्ष विश्राम मंडलोई (48) की बदमाशों ने उनके फॉर्म हाऊस पर हत्या कर दी। किसी वजनदार वस्तु से हमला कर बुधवार देर रात हत्या की बात सामने आई है। गुरुवार सुबह उनका अद्र्धनग्न अवस्था में शव खाट पर मिला। सिर के पिछले हिस्से में गंभीर चोट थी। संभवत: अधिक खून बह जाने से उनकी मौत हुई है। कांग्रेस नेता की हत्या के बाद पार्टी में हडक़ंप की स्थिति है।

election-2

मंडलोई वन समिति अध्यक्ष और धाराजी के सरपंच भी थे। वे बुधवार रात नीमनपुर के पास अपने फॉर्म हाऊस पर थे। पीपरी से उनका बड़ा बेटा रात करीब 10 बजे फॉर्म हाऊस पर उन्हें खाने का टिफिन देकर वापस लौट आया था। उदयनगर पुलिस के अलावा एसपी चंद्रशेखर सोलंकी, बागली एसडीओपी एस.एल. सिसौदिया ने भी घटनास्थल का दौरा कर मौका मुआयना किया। जिला मुख्यालय से एफएसएल अधिकारी भी पहुंचीं लेकिन कुछ खास उपलब्धि नहीं हासिल हो सकी। न तो हत्या करने में उपयोग किए गए हथियार या वस्तु के बारे में कोई कुछ स्पष्ट कह पाने की स्थिति में रहा न ही यह पता चल पाया कि मंडलोई की हत्या खाट पर सोते समय ही कर दी गई या फिर आसपास कहीं हत्या करने के बाद खाट पर लाकर लेटाया गया।

अंतिम यात्रा में उमड़ी भीड़

उदयनगर के अस्पताल में पीएम के बाद मंडलोई के पीपरी स्थित निवास से अंंतिम यात्रा निकाली गई जिसमें आसपास के क्षेत्र से बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए। देरशाम पुलिस अधिकारियों व बल की उपस्थिति में धाराजी में अंतिम संस्कार किया गया। जानकारी के अनुसार मंडलोई की दो पत्नियां हैं, एक का परिवार पहले धाराजी में रहता था फिर डूब क्षेत्र में आने के कारण पीपरी शिफ्ट हो गए थे। वहीं दूसरी पत्नी पुंजापुरा में रहती है। अंतिम यात्रा के दौरान रास्ते में पडऩे वाले गांवों में पुरुषों सहित महिलाओं व बच्चों की भी भीड़ लगी रही।

राजनीति प्रतिद्वंद्विता या रंजिश!

हत्या का कारण राजनीति प्रतिद्वद्विता या रंजिश हो सकता है। 2013 व 2018 के विधानसभा चुनाव में मंडलोई कांग्रेस से प्रबल दावेदार थे। हालांकि उनको टिकट नहीं मिल सका था।

Congress
हुसैन अली
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned