तीन शिफ्टों में 24 घंटे छापे जा रहे नोट

तीन शिफ्टों में 24 घंटे छापे जा रहे नोट
dewas

Amit Mandloi | Publish: May, 20 2017 11:14:00 PM (IST) Dewas, Madhya Pradesh, India

बीएनपी...करंसी की बढ़ी डिमांड, रविवार का अवकाश बंद

देवास. बैंक नोट मुद्रणालय (बीएनपी) में नोटबंदी के बाद से कर्मचारियों द्वारा नोट छपाई का कार्य देश सेवा की तरह दिन-रात किया जा रहा है। नोट की मांग बढऩे पर कर्मचारियों का रविवार का अवकाश खत्म करने के साथ ही अन्य तीज-त्योहारों पर भी छुट्टी नहीं दी गई थी। कर्मचारी भी तीन शिफ्टों में मशीनों पर 24 घंटे नोट छापने का कार्य कर रहे थे। नोट की मांग कम होने पर बीएनपी प्रबंधन ने अप्रैल माह से प्रति रविवार को कर्मचारियों का अवकाश घोषित कर दिया था। यह अवकाश अप्रैल माह के 5 रविवार व मई के मात्र 2 रविवार तक जारी रहा और इस रविवार यानी 21 मई से फिर अवकाश निरस्त किया जा रहा है।

कर्मचारियों का कहना है कि माह के 30 दिनों तक सतत काम करने से व्यक्ति बीमार भी होने लगता है। सप्ताह में एक अवकाश मिल जाए तो वह अपने जरूरी काम निपटाने के साथ ही आराम भी कर लेता है। 21 मई से रविवार का अवकाश खत्म होने से पहले बीएनपी प्रबंधन ने गेट पास की वर्षों पुरानी प्रक्रिया भी बंद कर दी है। गेट पास खत्म करने से कर्मचारी बीएनपी में कार्य करते समय घर पर आवश्यक कार्य आ जाने पर नहीं जा सकता है।

पांच माह बिना छुट्टी के किया कार्य
देश में नोट बंदी 9 नवंबर 2016 से हुई थी। इसके बाद से बीएनपी के कर्मचारियों ने सतत करीब 5 माह तक बिना छुट्टी के कार्य किया था। इस समयावधि में ओवरटाइम काम करने की प्रबंधन की ओर से दोगुना पगार दी जाती है। लेकिन कर्मचारी सप्ताह में एक दिन अवकाश चाहते हैं। नोट बंदी के पहले दो शिफ्ट में नोट छपाई का काम चलता था, लेकिन नोट बंदी के बाद से तीन शिफ्ट में कार्य चल रहा है।

मांग बढऩे पर निरस्त किया अवकाश

रविवार का अवकाश निरस्त होने की सूचना मिलने पर जानकारी लेने के लिए बीएनपी मुख्य प्रबंधक एमसी वैलप्पा से दूरभाष पर संपर्क करना चाहा तो पता चला की वे बीएनपी से बाहर हैं। इसके बाद एचआर विभाग में फोन लगाने पर जानकारी मिली की करंसी मांग बढ़ी है, इसलिए रविवार का अवकाश निरस्त किया जा रहा है।

यह भी जानें
- बीएनपी ने करीब 3913 मिलियन नोट छपाई की थी वित्तीय वर्ष में।

- इस बार बीएनपी को मिला है 4 हजार मिलियन नोट छापने का लक्ष्य।
- सेना के जवान अभी भी डटे हैं नोट छपाई के कार्य में।

- नोटबंदी के बाद से छप रहे 500-500 के नोट।
- नोट छपने के बाद कंसाइमेंट जाते आरबीआई को।

- तीन शिफ्ट में 24 घंटे छापे जा रहे हैं नोट।
- मुख्य तीन मशीनों से होकर छपता है 500 का नोट।



MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned