एशियन गेम्स से देवास लौटने पर कोच सांगते, खिलाड़ी जय एवं आध्या का सम्मान , देखे वीडियो

एशियन गेम्स से देवास लौटने पर कोच सांगते, खिलाड़ी जय एवं आध्या का सम्मान , देखे वीडियो

amit mandloi | Publish: Sep, 05 2018 04:27:55 PM (IST) Dewas, Madhya Pradesh, India

राजानी ने कहा कि यह देवास के लिए गौरव की बात है कि यहां के खिलाडियों ने एशियन गेम्स में भारतीय सॉफ्ट टेनिस टीम का प्रतिनिधित्व किया

देवास.
पिछले दिनों इंडोनेशिया में संपन्न हुए 18वें एशियन गेम्स में शहर के सुदेश सांगते ने भारतीय सॉफ्ट टेनिस टीम के कोच के रूप में व खिलाड़ी जय मीणा सहित होशंगाबाद की आध्या तिवारी ने प्रतिनिधित्व किया। मंगलवार सुबह इनकी देवास वापसी पर आतिशबाजी कर ढोल.ढमाके के साथ खुली जीप में सम्मान समारोह स्थल चामुंडा कॉम्प्लेक्स लाया गया। मंच पर विभिन्न खेल संगठनों के खिलाड़ी, पदाधिकारी, खेल प्रेमी एवं जनप्रतिनिधियों राधेश्याम सोलंकी, संतोष परिहार, जयप्रकाश शास्त्री, जयसिंह ठाकुर, मनोज राजानी, श्रीकांत उपाध्याय, प्रयास गौतम, विष्णु वर्मा, सलीम शेखए मनीष जायसवालए विजय चौधरी, एसएन नामदेव, विजय वर्मा, सुनील चौधरी, राकेश लश्करी आदि ने पुष्पहारों से स्वागत किया।

इससे पहले विकासनगर चौराहे पर प्रवीण श्रीवास्तव, शैलेंद्र सांगते, अनिल श्रीवास्तव, नरेंद्र यादव, गंगानगर चौराहे पर विपुल चौहान, मुनव्वर खां पठान, यूसुफ शेख, मिश्रीलालनगर चौराहे पर नारायण क्रीड़ा मंडल के प्रवीण सांगते, कपिल व्यास, गौरव कदम, सुमित सांगते, अजय वर्मा, तेजू सोलंकी आदि ने तथा मंडूक पुष्कर पर जगदीश मालवीय, कमलेश अवस्थी, मोहन वर्मा, शिक्षा विभाग के हरिओम तिवारी, संजय आचार्य, मोहनदास बैरागी, अरुण शर्मा, राहुल निलोत्से, ओपी परमार आदि ने स्वागत किया।
सम्मान समारोह में राजानी ने कहा कि यह देवास के लिए गौरव की बात है कि यहां के खिलाडियों ने एशियन गेम्स में भारतीय सॉफ्ट टेनिस टीम का प्रतिनिधित्व किया जबकि प्रदेश की खेल नगरी इंदौर से किसी भी खिलाड़ी ने खेल के महाकुंभ में भाग नहीं लिया।

पूर्व महापौर ठाकुर ने कहा सुदेश सांगते ने अपना खेल जीवन बहुत ही अभावों में शुरू किया आज उसका ही परिणाम है कि देवास के सॉफ्ट टेनिस के अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी ने एशियन गेम्स में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया। श्रीकांत उपाध्याय व प्रयास गौतम ने भी विचार रखे। सुदेश सांगते ने कहा कि देवास के लोगों के प्यार, स्नेह, सहयोग से ही खिलाड़ी इस मुकाम तक पहुंचे हैं। संचालन चंद्रपालसिंह सोलंकी ने किया व आभार हेमेंद्र निगम ने माना।

Ad Block is Banned