वार्ड इंचार्ज की प्रताडऩा से स्टॉफ नर्स परेशान

- नर्सिंग अधीक्षक, सिविल सर्जन से शिकायत करने के बाद कोतवाली में दर्ज करवाया केस

देवास

. महात्मा गांधी जिला अस्पताल में दो दिन पहले वार्ड इंचार्ज ने स्टॉफ नर्स के साथ इतने अभद्र शब्दों का इस्तेमाल किया कि वह मानसिक रूप से प्रताडि़त हो गई। आए दिन वार्ड इंचार्ज किसी न किसी बात को लेकर स्टॉफ नर्स को अपशब्द कहती रहती थी, जिस पर उसने ध्यान नहीं दिया था। जब अति हो गई तो नर्स ने लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग भोपाल के नाम पत्र लिखकर शिकायत देवास नर्सिंग अधीक्षक व सिविल सर्जन को की गई। इस शिकायत के आधार पर कोतवाली पुलिस ने आरोपित इंचार्ज के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
कोतवाली पुलिस के अनुसार जिला अस्पताल में स्टॉफ नर्स के पद पर प्रीतिबाला पिता राजेंद्र काले निवासी विजय नगर देवास पुरुष सर्जिकल वार्ड में गत दो वर्ष से पदस्थ हैं। नर्स नियमित रूप से अस्पताल में आकर ड्यूटी निभा रही है। वार्ड इंचार्ज मंजू पाल द्वारा प्रीतिबाला को काफी समय से मानसिक रूप से प्रताडि़त कर अपशब्दों का प्रयोग किया जाता रहा है। इसी तरह गत चार जून को सुबह वार्ड इंचार्ज के द्वारा अभद्र शब्दों का उपयोग किया, जिससे नर्स मानसिक रूप से परेशान हो गई। नर्स ने कार्रवाई के लिए अपने अधिकारियों को लिखित में शिकायत करने के साथ ही कोतवाली थाने में प्रकरण दर्ज करवा दिया गया है। पुलिस ने आरोपित वार्ड इंचार्ज के खिलाफ धारा ५०४ के तहत केस दर्ज कर लिया है। केस दर्ज होने के बाद से जिला अस्पताल में बुधवार को चर्चाओं का दौर जारी रहा।
बॉक्स...
स्टॉफ के बीच में होती रहती बहस
जिला अस्पताल के अलग-अलग वार्डों में आए दिन किसी न किसी बात को लेकर बहस होती रहती है। कई बार मामला अधिकारियों के संज्ञान में आने के बाद समझौता करा दिया जाता था। इस बार मामला बढ़ गया और थाने में एफआईआर दर्ज करवा दी गई है। अस्पताल में मरीजों की संख्या अधिक होने से कार्य का दबाव अधिक रहता है, जिसके चलते स्टॉफ में आपस में बहस हो जाती है।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned