परिजन गए बेंगलुरु,घर में चोरी

Arjun Richhariya

Publish: Jun, 15 2018 01:06:57 AM (IST)

Dewas, Madhya Pradesh, India
परिजन गए बेंगलुरु,घर में चोरी

बेटी का कमरा शिफ्ट करवाने और बेटे को एडमिशन दिलाने गए थे

देवास. शहर के रामनगर में जेजुरी गार्डन के पास स्थित सूने मकान में बदमाशों ने पीछे का दरवाजा तोड़कर चोरी की वारदात को अंजाम दिया है। चोरों ने अलमारी का लॉक तोड़कर, उसमें रखे चांदी के सिक्के सहित नकदी पर हाथ साफ कर दिया। दस दिन बाद पति व पत्नी बेंगलुरु से लौटे तो घर का दरवाजा अंदर से लगा था। पीछे वाले दरवाजे पर पहुंचे तो वह खुला था और अंदर सामान अस्त-व्यस्त पड़ा था। दंपत्ति ने तत्काल पुलिस को चोरी की सूचना दी, सूचना मिलते ही सिविल लाइन पुलिस के जवान मौके पर पहुंचकर जांच की।
मकान मालिक भूवनेश गांधी ने बताया कि मैं पत्नी के साथ दस दिन पहले बेंगलुरु गया था। वहां पर बेटी का कमरा शिफ्ट करवाने के साथ ही बेटे का एडमिशन भी करवाया गया। वहां से गुरुवार सुबह घर लौटा तो अंदर सारा सामान अस्त-व्यस्त पड़ा था। पत्नी ने अलमारी में चेक किया तो पूजन में काम आने वाले चांदी के सिक्के, दस-दस के नए नोट की दो गड्डी कुल ३० हजार रुपए की चोरी हो गई है। बदमाशों ने घर में रखी सामग्री को हाथ भी नहीं लगाया, उनका टॉरगेट नकद राशि और जेवर चुराना था। दस दिनों में पता नहीं किस दिन अज्ञात चोरों ने वारदात को अंजाम दिया है। सूचना मिलने पर सिविल लाइन थाने से पुलिसकर्मी पहुंचे और फोटो व वीडियो बनाकर कार्रवाई की गई।
आर्टिफिशियल ज्वेलरी छोड़ गए:गांधी ने बताया कि बदमाश शातिर और जानकार थे, जिन्होंने आर्टिफिशियल ज्वेलरी को देखने के बाद बेड पर ही छोड़ दिया। सोने की रकम बदमाशों को हाथ नहीं लग सकी, वरना लाखों की चोरी हो जाती। नकली ज्वेलर्स को देखने के बाद उन्होंने मौके पर ही छोड़ दिए।
अलमारी में रखे नए कपड़ों को हाथ तक नहीं लगाया। गांधी देवास की निजी कंपनी में कार्य करते हैं, जिनके दोनों बच्चे बेंगलुरु में रह रहे हैं। बेटी पढ़ाई करने के बाद जॉब कर रही है। सिविल लाइन पुलिस का कहना है कि अभी तक चोरी के मामले में आवेदन व रिपोर्ट दर्ज करवाने के लिए कोई नहीं आया है।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned