भूसे के ढेर में निकली लकडिय़ां

- वन विभाग ने आरोपित को लिया हिरासत में, घर से मिली 52 नग सागवन व औजार

- वन विभाग ने आरोपित को लिया हिरासत में, घर से मिली 52 नग सागवन व औजार
कुसमानिया. खिवनी अभ्यारण्य से लगे ग्राम रीछिखो वन विभाग के अमले ने दबिश देकर 52 नग सागवान के चिरान, सिल्लियां सहित औजार जब्त किए है। इस गांव में आरोपित लकड़ी का अवैध धंधा कर रहे थे। वन अमले द्वारा बरामद की लकड़ी की कीमत करीब 18 हजार रुपए बताई गई। विभाग ने वनोपज अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया।
रेंजर विनोद वर्मा ने बताया कि मुखबिर की सूचना पर ग्रामीण क्षेत्रों में रामनिवास पिता कन्हैयालाल के बाड़े की तलाशी ली गई जिसमें सागवान के अवैध चिरान और सिल्लियां पाई गई। रामनिवास से और भी सख्ती से पूछताछ करने पर पता चला कि वह अवैध तरीके से बढ़ईगिरी का काम करता है, मकान के घर की तलाशी लेने पर अवैध रूप से रखी है सागौन की चिरान, चौखट, सिल्लियां और औजार कटर मशीन मिली। साथ ही भूसे के ढेर में अन्य लकडिय़ां भी छिपा रखी थी। रामनिवास के घर से 35 तक सागवान के चिराग जब्त किए हैं जिनकी कीमत करीब 10 से 12 हजार रुपए हैं। वन विभाग द्वारा प्रकरण दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। साथ ही इसी ग्राम के इमरतलाल पिता धन सिंह के मवेशी के बाड़े की तलाशी ली गई जिसमें 15 सागवान के चिराग जब्त किए। अमृतलाल से पूछने पर अपने भाई मदनलाल के बारे में भी अवैध सागवान होने की जानकारी दी, जिसके पश्चात मदनलाल के बाड़े में छुपा कर रखी सागवान की 2 सिल्लियां भी जब्त की गई। कार्रवाई के दौरान आरोपित इमरत लाल स्टाफ को धक्का देकर मौके से भाग निकला। इस प्रकार करीब 6000 की लकडिय़ां इमरत लाल और उसके भाई के घर से बरामद हुई। कार्रवाई में खिवनी अभ्यारण के परिक्षेत्र सहायक कैलाश मुजाल्दे, वनरक्षक सतीश नरवरिया, कृष्ण कांत वर्मा, अंकित बारसिया, रामप्रसाद भारती, रितु सिसोदिया, अर्चना नागराज, सुरक्षा श्रमिक सुरेंद्र घावरी व आनंद विश्वकर्मा का विशेष सहयोग रहा।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned