खूनी है ये सड़क, 1200 से भी ज्यादा लोग समा चुके मौत के मुंह, जानिए वजह

खूनी है ये सड़क, 1200 से भी ज्यादा लोग समा चुके मौत के मुंह, जानिए वजह

Bhawna Chaudhary | Updated: 02 Aug 2019, 11:29:50 AM (IST) Dhamtari, Dhamtari, Chhattisgarh, India

एक ऐसी खुनी सड़क जहां हर साल 100 से भी ज्यादा लोगों मौत के मुंह में समा रहे है। आपको बता दसें 12 सालों में अब तक 1200 से ज्यादा लोगों की मौत हो (Died in Road Accident) चुकी है। आइये जानते क्या है इसकी वजह :

धमतरी. छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में एक ऐसी खुनी सड़क जहां हर साल 100 से भी ज्यादा लोगों मौत के मुंह में समा रहे है। आपको बता दसें 12 सालों में अब तक 1200 से ज्यादा लोगों की मौत हो (Died in Road Accident) चुकी है। आइये जानते क्या है इसकी वजह :

निजी बस संचालक हाइवे में आपसी प्रतिस्पर्धा के चलते यात्रियों की जान से खेल रहे हैंं। आरटीओ की ओर से स्पीड का निर्धारण होने के बाद भी वे इसका पालन नहीं कर रहे हैं। यही कारण है कि नेशनल हाइवे में एक के बाद एक सडक़ दुर्घटनाएं हो रही है। सूत्रों के अनुसार नेशनल हाइवे समेत अन्य सडक़ दुर्घटनाओं में पिछले 12 सालों में 12 सौ से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। ऐसे में नागरिक अब वाहनों की तेज रफ्तार पर लगाम कसने के साथ ही फिर से स्टेट ट्रांसपोर्ट शुरू कर बस सेवा शुरू करने की मांग कर रहे हैं।

road accident

नेशनल हाइवे मेंं धमतरी से रायुपर और धमतरी से जगदलपुर रूट में प्रतिदिन निजी कंपनियों की 80 से अधिक बसों का संचालन किया जाता है। इस रूट में निजी बसों के संचालन के लिए हर दो मिनट में परमिट जारी कर दिया गया है। इसके चलते बस संचालकों में प्रतिस्पर्धा काफी बढ़ गई है। पिछले दिनों इसके चलते ही ग्राम चिटौद के पास दो यात्री बसों में जबरदस्त भिड़त हो गई, जिसमें दो यात्रियों की मौत हो गई। करीब ३६ यात्री घायल हुए। गुरूवार को सोरिद पुल के पास देखा गया कि दो निजी कंपनी की बसें एक-दूसरे से आगे बढऩे के लिए प्रतिस्पर्धा कर रही थी, इसके चक्कर में एक बाइक चालक दुर्घटनाग्रस्त होते हुए बाल-बाल बचा।

road accident

हर साल औसत सौ लोगों की मौत
सूत्रों की मानें तो नेशनल हाइवे में बसों की स्पीड पर लगाम नहीं होने के चलते सडक़ दुर्घटनाओं में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि हुई है। पिछले 12 सालों में अब तक 4737 सडक़ दुर्घटनाएं हुई है, जिसमेंं 4579 लोग घायल हुए हैं, जबकि 1258 लोगों की अकाल मौत हो गई है। इस तरह हर साल सडक़ दुर्घटना में औसत 100 लोग मौत के मुंह में समा रहे हैं।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned