धमतरी जिले में 5 करोड़ की शराब बिक्री, फिर भी हो रही कालाबाजारी

बड़ी मात्रा में लोगों ने शराब का स्टॉक भी जमा कर लिया है। अब इस शराब की कालाबाजारी भी की जा रही है।

By: Bhawna Chaudhary

Published: 10 May 2020, 11:45 AM IST

धमतरी. लॉकडाउन के बीच शराब दुकान खोलते ही चार दिन मदिरा प्रेमियों ने 4.84 करोड़ की शराब गटक ली। उधर, बड़ी मात्रा में लोगों ने शराब का स्टॉक भी जमा कर लिया है। अब इस शराब की कालाबाजारी भी की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि कोरोना संकट को देखते हुए जिले में बीते 25 मार्च से शराब दुकानों को बंद कर दिया गया था। इस बीच मदिरा प्रेमी बिना शराब के करीब 43 दिन रहे, लेकिन अचानक केंद्र और राज्य सरकार के फैसले ने फिर से मदिरा प्रेमियों को शराब दुकानों की ओर खींच लाया। गौरतलब है कि बीते 4 मई से जिले में के सभी 26 शराब दुकानें खुलते ही यहां मदिरा प्रेमियों की भीड़ लग गई।

9 विदेशी और 17 देशी शराब दुकानों में जिस तरह से भीड़ उमड़ी, उसे एक दिन में मदिरा प्रेमियों ने 1 करोड 48 लाख रुपए की शराब गटक गए। दूसरे और तीसरे दिन भी शराब दुकानों में यह नजारा रहा। इसमें मंगलवार को 1.28 करोड़ तथा बुधवार को 1. 08 करोड़ की शराब बिकी। आबकारी विभाग के मुताबिक शराब दुकान खोलने के बाद 4 से 8 मई के बीच अर्थात जिले के मदिरा प्रेमियों ने कुल 5 करोड की मदिरा गटक ली है।

नशा मुक्ति अभियान को लगा झटका
नशा मुक्त समाज के लिए शहर की सड़कों में शाम ढलते ही गश्त करने वाली महिला कमांडो अंजनी ध्रुव, पुष्पा यादव, शकुन यादव, जानकीबाई का कहना है कि जब तक शराब को हतोत्साहित नहीं किया जाए तब तक नशा मुक्त समाज की कल्पना नहीं की जा सकती। उन्होंने कहा कि शराब को लेकर सरकार की दोहरी पॉलिसी है। एक तरफ खुद शराब बेचती, वहीं दूसरी तरफ जन जागरण के लिए महिला कमांडो को लाठी लेकर सड़क में उतर आती है। ऐसे में शराबबंदी मुहिम फेल ही साबित होगी।

सरकार ने कर दी चूक
इधर, अधिवक्ता शत्रुघन साहू, कीर्तन मनिपाल का कहना है कि लॉकडाउन में शराबबंदी के लिए आदर्श समय था। पिछले 40 दिनों में लोग के बिना सीख गए लेकिन, सरकार के एक नए फैसले ने पूरी व्यवस्था पर ही पानी फेर दिया। भविष्य में अब शायद ही प्रदेश में शराबबंदी का सपना पूरा होगा।

घर पहुंच सेवा
शराब दुकान खुलने के बाद शराब की जमाखोरी भी बढ़ गई है। कोचिए समेत कुछ प्रभावशाली लोगों ने बड़ी मात्रा में शराब खरीदकर अपने पास रख लिया है। कोचिए को इसकी कालाबाजारी में लग गए हैं। सूत्रों के अनुसार 10 से 20 तक अधिक राशि लेकर घर पहुंच सेवा दे रहे हैं।

आबकारी अधिकारी एमके जयसवाल ने बताया कि जिले में 5 दिनों में करीब 5 करोड़ की शराब बिकी है। सोशल डिस्टेंस का पालन कराने सभी दुकानों में बैरिकेड के साथ ही वानों की ड्यूटी लगाई गई है।

Show More
Bhawna Chaudhary
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned