राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों को नहीं मिल रहा गुजारे के लिए जमीन, कलेक्टर से मांगा अधिकार

राष्ट्रपति के दत्तक पुत्रों को नहीं मिल रहा गुजारे के लिए जमीन, कलेक्टर से मांगा अधिकार
Kamar Tribes

deepak dilliwar | Updated: 03 Oct 2016, 11:33:00 PM (IST) Dhamtari, Chhattisgarh, India

जिले में राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र कमार परिवारों की कहीं सुनवाई नहीं हो रही। प्रत्येक कमार परिवार को खेती कर गुजर बसर करने एक एकड़ जमीन देने का प्रावधान हैं, लेकिन यहां इसका पालन नहीं हो रहा

धमतरी. जिले में राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र कमार परिवारों की कहीं सुनवाई नहीं हो रही। प्रत्येक कमार परिवार को खेती कर गुजर बसर करने एक एकड़ जमीन देने का प्रावधान हैं, लेकिन यहां इसका पालन नहीं हो रहा। कलक्टर का ध्यान कमारों ने आकर्षित किया है।

नगरी ब्लाक के ग्राम संबलपुर (अमाली) के कमारों ने सोमवार को कलक्ट्रेट पहुंचकर प्रदर्शन किया। जनपद सदस्य दसरू बाई कमार ने बताया कि संबलपुर में करीब 30 विशेष पिछड़ी जनजाति (कमार) परिवार हैं, जो भूमिहीन है। सभी कमार परिवार कृषि करना चाहते हैं, लेकिन उनके पास कोई जमीन नहीं है। ऐसे में जीवन यापन करने में उन्हें परेशानी हो रही है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र होने के नाते केंद्र सरकार ने प्रत्येक कमार परिवार को खेती के लिए जमीन देने की बात कही गई थी, अत: कलक्टर के जरिए डा. रमन सरकार का ध्यानाकर्षण करने के लिए यहां पहुंचे हैं। कौशिल्या कमार, मानकी कमार, पैती बाई कमार ने कहा कि ग्राम पंचायत अमाली में कक्ष क्रमांक 371 में कृषि लायक वनभूमि हैं। गांव में पिछले 50 सालों से अधिक समय से निवारत हैं, अत: उनकी बेहतर जिंदगी के लिए वन अधिकार पट्टा दिया जाना चाहिए। कलक्टर से मिलने वालों में भागवती कमार, खेद बाई, देवकी बाई,  बानकी बाई कमार आदि शामिल थीं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned