यहां कमर्शियल जगहों पर बेधड़क किया जा रहा है घरेलू गैस सिलेंडरों का इस्तेमाल, फिर भी कार्रवाई नहीं

किसी भी व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में कमर्शियल गैस सिलेंडरों (Commercial Gas Cylinder) का इस्तेमाल किया जाना होता है। पर धमतरी जिले में अधिकांश हॉटल, ठेला आदि जगहों में अवैध तरीकों से घरेलू गैसों (Domestic Gas Cylinder) का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसके बावजूद इस मामले पर कार्रवाई नहीं की जा रही है।

By: Akanksha Agrawal

Published: 16 May 2019, 12:21 PM IST

धमतरी. जिले में पिछले पांच सालों में विभिन्न व्यावसायिक (Commercial) प्रतिष्ठानें तो खुल गए है, लेकिन उस हिसाब से कमर्शियल गैस सिलेंडर (Commercial Gas Cylinder) का उठाव नहीं हो रहा है। अधिकांश हॉटल, ठेला और गुमटियों में घरेलू गैस सिलेंडर (Domestic gas Cylinder) का उपयोग हो रहा है। इसके बाद भी संबंधित विभाग कार्रवाई करने के लिए कोई दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है। ऐसे में घरेलू गैस सिलेंडर (Domestic gas Cylinder) की कालाबाजारी बढ़ गई है।

उल्लेखनीय है कि पिछले कुछ सालों में जिले में बेरोजगारों की संख्या में अप्रत्याशित रूप से वृद्धि हुई है। ऐसे में अधिकांश लोग चाय-नाश्ता समेत इडली सेंटर खोलकर अपने परिवार का भरण-पोषण कर रहे हैं। यहीं नहीं शहर के रत्नाबांधा, मुजगहन रोड, सिहावा रोड समेत हाइवे स्थित ग्रामीण क्षेत्रों में हॉटल और ढाबे संचालित हो रहे हैं।

नियमानुसार यहां खाद्य पदार्थों को पकाने के लिए कमर्शियल गैस सिलेंडर (Commercial Gas Cylinder) का उपयोग होना चाहिए, लेकिन दुकान संचालक इस नियम का खुलकर उल्लंघन कर रहे हैं। एक जानकारी के अनुसार पिछले पांच सालों में जिले में 7 सौ से अधिक जगहों पर व्यवसायिक प्रतिष्ठान समेत ठेला-गुमटी खुल गया है।

इसमेें से कुछ ही दुकानों में कमर्शियल गैस सिलेंडर (Commercial Gas Cylinder) का उपयोग हो रहा है, जबकि अधिकांश में घरेलू गैस सिलेंडर (Domestic Gas Cylinder) का। सूत्रों की मानें तो पांच साल पहले जिले में प्रतिमाह एक लाख बीस हजार घरेलू गैस सिलेंडर (Domestic Gas Cylinder) का उठाव हो रहा है। इसके विपरीत Commercial Gas Cylinder सिर्फ प्रतिमाह 1 हजार की बिक्री हो रही है।

एक एजेंसी संचालक ने बताया कि कमर्शियल गैस सिलेंडर 19 किग्रा का रिफलिंग कराने के लिए 1465 रूपए लगता है, जबकि 14.2 किग्रा का सिलेंडर 792.50 रूपए लगता है। शायद कीमत में अंतर के चलते ही दुकानदार घरेलू गैस सिलेंडर का उपयोग करने में दिलचस्पी दिखा रहे हैं।

 

सहायक खाद्य अधिकारी अरविंद दुबे ने बताया कि नियमानुसार व्यवसायिक प्रतिष्ठानों में घरेलू गैस सिलेंडर का उपयोग प्रतिबंधित है। समय-समय पर विभाग की टीम की ओर से कार्रवाई की जाती है।

यह है कारण
जानकारों की मानें तो शासन ने घरेलू उपभोक्ताओं को एक साल में 12 गैस सिलेंडर देने का प्रावधान किया है, इसमें संबंधित उपभोक्ता के खाते में 286 रूपए का सब्सिडी भी ट्रांसफर किया जाता है। जबकि कमर्शियल में किसी तरह की कोई सब्सिडी नहीं मिलती। यही कारण है कि कमॢशयिल की जगह घरेलू गैस सिलेंडर का उठाव लगातार बढ़ रहा है।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

CG Lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download करें patrika Hindi News

Show More
Akanksha Agrawal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned