DRM ने इन वार्डों की लाखों वर्गफीट जमींन को बताया रेलवे का, चुनाव के बाद होगी कार्रवाई

DRM ने इन वार्डों की लाखों वर्गफीट जमींन को बताया रेलवे का, चुनाव के बाद होगी कार्रवाई

Deepak Sahu | Publish: Sep, 06 2018 02:15:33 PM (IST) Dhamtari, Chhattisgarh, India

रेलवे के डीआरएम कौशल किशोर की अगुवाई में बुधवार को रेलवे के अधिकारियों के एक उच्च स्तरीय दल पहुंचा

धमतरी. दक्षिण-पूर्व-मध्य रेलवे के डीआरएम कौशल किशोर की अगुवाई में बुधवार को रेलवे के अधिकारियों के एक उच्च स्तरीय दल यहां पहुंचा। उन्होंने अपने साथ एक नक्शा भी लेकर आया था, जिसमें बताया गया है कि लाखों वर्ग फीट जमीन रेलवे के आधिपत्य वाली है, जिस पर अब भी सैकड़ों लोगों ने कब्जा किया हुआ है। संभवत: विधानसभा चुनाव के बाद अगले साल जनवरी में अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई युद्धस्तर पर की जाएगी।

दक्षिण-पूर्व-मध्य रेलवे के डीआरएम कौशल किशोर सुबह साढ़े 10 बजे छोटी रेलगाड़ी में सवार होकर यहां रेलवे स्टेशन निरीक्षण के लिए पहुंचे। उनके साथ रेलवे के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी आए हुए थे। रेलगाड़ी से उतरते ही सबसे पहले वे नेशनल हाइवे स्थित रेलवे की जमीन से हटाए गए अतिक्रमण का जायजा लिया। इसके बाद वे निरीक्षण कक्ष में पहुंचे। यहां अधिकारियों के साथ संक्षिप्त बैठक लेने के बाद वे रेलवे परिसर का अवलोकन करने के लिए निकल गए। स्टेशन परिसर में सारी स्थिति-परिस्थितियों का अवलोकन करने के बाद उन्होंने अधिकारियों को टेंडर प्रक्रिया पूरी होने तक सारी तैयारियां कर लेने का निर्देश दिया।

पत्रकारों से चर्चा करते हुए डीआरएम कौशल किशोर ने बताया कि बड़ी रेल लाइन के लिए 543 करोड़ तथा टर्मिनल के लिए 70 करोड़ रुपए स्वीकृत हुआ है। इसके तहत केन्द्री से अभनपुर, राजिम होते हुए धमतरी तक 62.2 किमी ब्राडगेज बनेगी। इसके लिए टेंडर की प्रक्रिया चल रही है। संभवत: जनवरी तक टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। इसके बाद काम शुरू हो जाएगा। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कब्जाधारियों को हटाने का काम राज्य सरकार के सहयोग से ही होगा। जिला प्रशासन को इसके लिए पत्र भी लिखा गया है। जनवरी में यह कार्रवाई पूरी हो जाएगी। निरीक्षण के दौरान रेलवे के सीएनडीएसओ (सुरक्षा) आर सुदर्शन, वाणिज्य अधिकारी तन्मय मुखोपाध्याय, मंडल सुरक्षा आयुक्त अनुराग मीणा, रेलवे थाना निरीक्षक दिवाकर मिश्रा, एसआई एसके शुक्ला आदि मौजूद थे।

दिया आश्वासन
जिला भाजपा अध्यक्ष रामू रोहरा के नेतृत्व में टैक्सी व्यवसायियों ने डीआरएम से मुलाकात की और रेलवे परिसर की खाली पड़ी जमीन पर अस्थायी रूप से वाहन रखने के लिए अनुमति मांगी, जिस पर उन्होंने आश्वासन दिया है। गौरतलब है कि रेलवे द्वारा बाउंड्रीवाल किए जाने से टैक्सी व्यवसायियों के सामने समस्या खड़ी हो गई है।

न्यायालय की शरण
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों रेलवे मंडल की ओर से यहां के 35 अतिक्रमणकारियों को नोटिस जारी कर 30 अगस्त तक कब्जा हटाने का नोटिस दिया गया था। कार्रवाई करने के लिए कलक्टर को भी बल उपलब्ध कराने के लिए कहा गया था। इस बीच कुछ अतिक्रमणकारियों ने न्यायालय का दरवाजा भी खटखटाया है।

चुनाव बाद कार्रवाई
रेलवे के अधिकारियों ने अपने साथ जो नक्शा लेकर आया था, उसमें औद्योगिक वार्ड, सुंदरगंज वार्ड तथा लालबगीचा वार्ड में लाखों वर्ग फीट जमीन को रेलवे का बताया गया है। सूत्रों के अनुसार डीआरएम ने अधिकारियों के दल को निर्देशित किया है कि वे संबंधित वार्डों का भ्रमण कर जगह को चिन्हांकित करें। संभवत: नए साल में युद्ध स्तर पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई को अंजाम दिया जा सकता है।

Ad Block is Banned