कर्ज माफी के लिए किसानों ने की पदयात्रा, कहा - रमन सरकार को हो उनके दर्द का एहसास

Deepak Sahu

Publish: Sep, 16 2018 06:45:48 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 06:45:49 PM (IST)

Dhamtari, Chhattisgarh, India

धमतरी. छत्तीसगढ़ में कर्जमाफी समेत अपने विभिन्न मांगों को लेकर राष्ट्रीय किसान परिषद ने जगदलपुर से पदयात्रा करते हुए शाम धमतरी पहुंची। रातभर यहां आराम करने के बाद रविवार को दोपहर सभी फिर राजधानी रायपुर के लिए रवाना हो गए। पदयात्रा का नेतृत्व कर रहे किसान नेता नगड़ूराम नाग ने बताया कि राज्य सरकार से किसानो को काफी अपेक्षाएं थी।लेकिन किसानों की कसौटी पर यह सरकार खरी नहीं उतरी । कर्ज के बोझ तले आज किसान पूरी तरह से डूब चुके है। किसानी आज घाटे का सौदा बन गया है। शासन ने किसानों के हित में अनेक योजनाएं तो जरूर बना दी लेकिन इन योजनाओं का लाभ जमीनी स्तर पर किसानों को मिल रहा है या नहीं इसकी मॉनिटरिंग की कोई सुविधा नहीं है।जिस कारण किसान बिचौलियों के हाथों लूटे जा रहे हैं ।

किसान नेता सुरेंद्र यादव ने कहा कि जब तक राज्य में डॉ स्वामीनाथ आयोग की सिफारिशों को लागू नहीं किया जाता, किसान और खेती की स्थिति नहीं बदल सकती। उन्होंने किसान आंदोलनों में पुलिस द्वारा किए गए सभी प्रकरणों को वापस लेने की मांग की है । किसान नेता गोपेश नेताम ने कहा कि बस्तर से कर्जमाफी के लिए पैदल राजधानी रायपुर इसलिए जा रहे हैं ताकि रमन सरकार को उनके दुख दर्द का एहसास हो । पिछले 4 दिनों से वे पैदल ही चल रहे हैं । 18 सितंबर को दोपहर में रायपुर पहुंचकर मुख्यमंत्री निवास के समक्ष प्रदर्शन कर कर्ज माफी की मांग करेंगे । पदयात्रा में करीब 25 सौ किसान सम्मिलित है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned