दर्दनाक हादसा: हाइवा की तेज रफ़्तार ने बेटी को उतारा मौत की घाट, भड़के ग्रामीणों ने फूंका वाहन

अपने माता-पिता के साथ साइकिल में बैठकर बच्ची अपने घर जा रही थी इस बीच विपरीत दिशा से आ रही हाइवा उसे अपनी चपेट में ले लिया।

By: Deepak Sahu

Published: 16 May 2018, 05:40 PM IST

धमतरी. छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में अपने माता -पिता के साथ साइकिल में जा रही बच्ची को हाइवा ने अपनी चपेट में ले लिया जिससे उसकी तत्काल दर्दनाक मौत हो गयी है। शहर की सीमा से लगा ग्राम कोलियारी के ग्रामीणों का मंगलवार को उस समय आक्रोश भडक़ उठा, जब अपने माता-पिता के साथ साइकिल में बैठकर बच्ची वास्तिका ध्रुव अपने घर ग्राम भोयना जा रही थी, कि इस बीच विपरीत दिशा से आ रही हाइवा क्रमांक सीजी 07 सीए-6202 के चालक ने लापरवाहीपूर्वक वाहन चलाते हुए उसे अपनी चपेट में ले लिया। इस घटना में तत्काल उसकी मौत हो गई। घटना में पिता मोहन ध्रुव (40)और उसकी मां मीना बाई (38) भी घायल हो गई।

आक्रोशित ग्रामीणों ने हाइवा में लगाई आग
देखते ही देखते वहां ग्रामीणों की भीड़ एकत्रित हो गई। मौके का फायदा उठाकर चालक फरार हो गया। इस बीच आक्रोशित ग्रामीणों ने हाइवा में आग लगा दी। आग की लपटे तेज होते ही ग्रामीणों ने प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी भी शुरू कर दिया। इस दरम्यान खबर पाकर मौके पर पुलिस पहुंच गई। कुछ देर में निगम का फायर बेड़ा भी आग बुझाने के लिए घटनास्थल पर पहुंच गया। जैसे ही आग को बुझाने का प्रयास किया गया, ग्रामीणों ने उसका विरोध शुरू कर दिया। पुलिस और ग्रामीणों के बीच झुमा झटकी भी हुई। फायर बेड़ा ने किसी तरह आग पर नियंत्रण पाया।

कलक्टर को बुलाने अड़े
घटना की खबर मिलने के बाद डिप्टी कलक्टर राजीव पांडेय, डीएसपी डीपी ठाकुर, नायब तहसीलदार गोविंद सिन्हा, अर्जुनी थाना प्रभारी उमेंन्द्र टंडन, सिटी थाना प्रभारी राकेश मिश्रा दलबल के साथ वहां पहुंच गए। ग्रामीणों ने चक्काजाम कर दिया। सडक़ के दोनों किनारे सैकड़ों वाहन जाम में फंस गए। अधिकारी ग्रामीणों को चक्काजाम समाप्त करने के लिए मनाते रहे, लेकिन वे कलक्टर को वहां बुलाने के लिए अडे रहे।

कांग्रेस ने किया समर्थन
विधायक गुरूमुख सिंह होरा, जिला कांग्रेस अध्यक्ष लेखराम साहू, कांग्रेस नेता मोहन लालवानी, नीशु चन्द्राकर, कृष्णा मरकाम, राजा देवांगन, स्वतंत्र कौशल, तोमेश सिन्हा समेत अन्य कांग्रेसी भी वहां पहुंच गए और ग्रामीणों की मांग का समर्थन करने लगे। उनका आरोप था कि इस मार्ग में दिन-रात हाइवा चलने से सडक़ की स्थिति जर्जर हो गई है। इसके अलावा तेज रफ्तार हाइवा के कारण लगातार मौत का सिलसिला भी शुरू हो गया है। इसके लिए प्रशासन अपनी जिम्मेदारी से नहीं बच सकता।

सत्ता का संरक्षण
उल्लेखनीय है कि ग्राम कोलियारी से झुरा नवागांव तक करीब 10 रेत खदानें है। वर्तमान में कमोबेश सभी रेत खदानें चल रही है। इस मार्ग से चौबीस घंटे में करीब 5 सौ से अधिक हाइवा चलती है। अधिकांश रेत खदानों का संचालन सत्तापक्ष से जुड़े लोग कर रहे हैं। रेत माफिया को पूरी तरह से शासन-प्रशासन का सहयोग मिला हुआ है। यही वजह है कि अब तक कोई इन पर कार्रवाई नहीं की गई।

माता-पिता का बुराहाल
अपनी बेटी वास्तिका की मौत से पिता मोहन ध्रुव और मीना बाई का रो-रोकर बुराहाल है। उन्होंने बताया कि आठ दिन पहले ही वह अपनी नानी लखवंतीन बाई के घर बठेनपारा गई थी। उसे वापस लेकर घर जा रहे थे कि यह दुर्घटना हो गई। उन्होंने कहा कि हमारी बेटी को मौत के मुंंह में डालने वाले कभी सुखी नहीं रहेंगे।

सीएम से करेंगे शिकायत
पुलिस ने हाइवा को आग के हवाले करने तथा चक्काजाम करने वाले ग्रामीणों के खिलाफ शिकायत हुई है। उधर, ग्रामीणों का कहना है कि 23 मई को मुख्यमंत्री के धमतरी प्रवास के दौरान वे उनसे मिलेंगे और कलक्टर समेत अन्य अधिकारियों की शिकायत कर कार्रवाई की मांग करेंगे। इस मामले में किसी की भी गिरफ्तारी हुई, तो उग्र आंदोलन किया जाएगा।

कलेक्टर, डा. सीआर प्रसन्ना ने बताया जल्द से जल्द कोलियारी सडक़ चौड़ीकरण का काम शुरू किया जाएगा। इसके निर्माण तक यहां हाइवा की आवाजाही पर रोक लगा दी गई है।

Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned