Chhattisgarh: इंटेलिजेंस की रिपोर्ट- बौखलाए नक्सली कर सकते हैं बड़ी वारदात, फिर भी सुरक्षा में अनदेखी

Chhattisgarh: इंटेलिजेंस की रिपोर्ट- बौखलाए नक्सली कर सकते हैं बड़ी वारदात, फिर भी सुरक्षा में अनदेखी

Akanksha Agrawal | Updated: 11 Jul 2019, 11:09:54 AM (IST) Dhamtari, Dhamtari, Chhattisgarh, India

- एक के बाद एक नक्सलियों के मारे जाने के से बौखलाए हुए हैं नक्सली।
- इंटेलिजेंस की रिपोर्ट किसी भी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं नक्सली।

धमतरी. उल्लेखनीय है कि इस थाना क्षेत्र के अंतर्गत कलक्टर-एसपी समेत अन्य अफसरों की कालोनी, जिला कलक्ट्रेट, पुलिस मुख्यालय और अंचल में किसानों की खेत की प्यास बुझाने वाला खूबचंद बघेल बैरॉज भी है। सूत्रों के अनुसार क्षेत्र में माओवादियों (Naxalite) की आवाजाही बनी रहती है। ऐसे में कभी भी रूद्री थाना की सुरक्षा खतरे में पड़ सकती है।

रिमझिम बारिश के बीच पत्रिका टीम रात करीब 12.18 मिनट पर रूद्री थाना पहुंची। मेनगेट में कोई सिपाही नहीं था। बिना रोकटोक के सीधे अंदर थाना परिसर में चले गए। यहां एक सिपाही नीतिन पांडेय वायरलेस सेट रूम में किसी मैसेज को कनवे कर रहे थे। एक टेबल में सिपाही सुरेन्द्र साहू और रोशन साहू बैठकर बातचीत में मशगुल थे। टीआई गगन बाजपेयी के बारे में पूछताछ किए तो पता चला कि वह रात 9.30 बजे आए थे। कुछ देर बाद चले गए।

यह पूछे जाने पर कि रात में थाना में किसकी ड्यूटी लगी है, तो बताया गया कि उनके अलावा एएसआई आरके साहू और सिपाही भुनेश्वर साहू संतरी ड्यूटी में है, लेकिन वे अभी बीफ्रिंग में शहर गए हुए हैं। उधर सूत्रों के अनुसार इंटेलिजेंस की खबर के अनुसार जिले में एक के बाद एक माओवादियों के मारे जाने के बाद उनके साथी बौखला गए हैं। वे किसी भी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। यहां तक की किसी थाना को भी वे अपना निशाना बना सकते हैं। ऐसे में रूद्री थाना की सुरक्षा की अनदेखी महंगी भी पड़ सकती है।

हो चुकी है बड़ी वारदातें
उल्लेखनीय है कि शासन ने कलक्ट्रेट, खूबचंद बघेल एवं रविशंकर शुक्ल जैसे बड़े बांधों को देखते हुए सुरक्षा की दृष्टि से आज से करीब 10 साल पहले रूद्री थाना की स्थापना की थी। इस थाना क्षेत्र में 22 गांवों को भी जोड़ा गया है। पुलिस रिकार्ड के अनुसार यह थाना क्षेत्र काफी संवेदनशील है। आसपास कई बड़ी वारदाते हो चुकी है।

स्टाफ नहीं
रूद्री थाना क्षेत्र में शांति व्यवस्था बनाए रखने के उद्देश्य से 42 लोगों का सेटअप स्वीकृत किया गया है। इसमें एक थाना प्रभारी, 2 एसआई, 4 एएसआई,8 प्रधान आरक्षक और 32 आरक्षक का सेटअप है। वर्तमान में दर्जनभर पुलिसकर्मियों की कमी है।

माओवादियों का खतरा
जिले में पिछले कुछ दिनों से माओवादियों का खतरा बढ़ गया है। गंगरेल बांध की सीमा क्षेत्र में अक्सर इनकी आवाजाही की खबर मिलती रहती है। इसके बावजूद भी पुलिस सुरक्षा की अनदेखी कर रही है। सबसे बड़ी विडम्बना यह है कि पुलिस के आला अधिकारी भी रात को अपने क्वार्टर से निकलकर थाना की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा नहीं लेते।

पाइंट से नदारद
पत्रिका टीम ने रूद्री चौक, कलक्ट्रेट मोड़ और बैरॉज एरिया में बनाए गए पाइंट में जाकर देखा तो कोई भी पुलिस कर्मी नहीं था। करीब 40 मिनट के बाद इस रास्ते से पुलिस की एक पेट्रोलिंग गाड़ी सन्नाटे को चीरते हुए निकल गई।

दोहरी जिम्मेदारी
जिले के इस संवेदनशील थाना क्षेत्र की जिम्मेदारी युवा पुलिस अधिकारी गगन वाजपेयी के कंधों पर है। पिछले दिनों टै्रफिक इंचार्ज भावेश शेंडे को निलंबित करने के बाद उन्हें अतिरिक्त रूप से टै्रफिक व्यवस्था की कमान भी सौंप दी गई है।

रूद्री थाना एक नजर में
स्थापना -23 फरवरी 2009
थाना प्रभारी - गगन वाजपेयी
स्टॉफ- 47
अंतर्गत गांव -22
प्रमुख क्षेत्र - कलक्ट्रेट, पुलिस मुख्यालय, खूबचंद बघेल बैरॉज, रविशंकर शुक्ल बैरॉज, वीआईपी, आफिसर्स कालोनी

एक्सपर्ट व्यू
सुरक्षा की दृष्टि से रूद्री थाना के चारो ओर बाउंड्रीवाल होना चाहिए। प्रवेश द्वार के पास एक वॉच टॉवर बनाकर सुरक्षाकर्मी को तैनात किया जाए, ताकि थाना परिसर के अंदर में कोई भी बेधडक़ न घुस जाएं। यहां सीसीटीवी कैमरा लगाया जाना चािहए, ताकि थाना के अंदर बैठे पुलिसकर्मियों को बाहर की गतिविधियों का पता चलता रहे। आरके ध्रुव, रिटायर्ड पुलिस अधिकारी

इतने दूरी में प्रमुख पाइंट
रूद्री थाना से महज 2 सौ मीटर की दूरी पर कलक्टर और एसपी बंगला है। इतने ही दूरी में रूद्री चौक है। बैराज भी बमुश्किल 9 सौ मीटर तथा एक किमी की दूरी पर कलक्ट्रेट, कंपोजिट बिल्डिंग, जिला पुलिस मुख्यालय तथा जिला न्यायालय परिसर है, फिर भी यहां सुरक्षा को लेकर जिस तरह से लापरवाही बरती जा रही है, वह कभी भी भारी पड़ सकता है।

टीआई रूद्री गगन वाजपेयी ने बताया कि रात्रि में पुलिस सुरक्षा को लेकर काफी चौकस है। थाना में स्टाफ के अलावा रूद्री, गंगरेल और जनपद तिराहा में पाइंट ड्यूटी भी लगाई जाती है। बाउंड्रीवाल का प्रस्ताव भेजा गया है। कैमरा और वॉच-टॉवर का भी प्रस्ताव बनाकर भेजेंगे।

Chhattisgarh Naxal Attack से जुड़ी सभी खबरें यहां बस एक क्लिक में

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News

एक ही क्लिक में देखें Patrika की सारी खबरें

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned