अगर आप भी खरीदते है कश्मीरी केसर चावल तो सावधान, चल रहा है ये फर्जीवाडा

अगर आप भी खरीदते है कश्मीरी केसर चावल तो सावधान, चल रहा है ये फर्जीवाडा

Anjalee Singh | Publish: Jun, 20 2019 12:05:08 PM (IST) Dhamtari, Dhamtari, Chhattisgarh, India

एक रजिस्टर्ड कंपनी के पैकेट में दूसरे ब्रांड का चावल (Rice) बेचने का मामला सामना सामने आया है।

धमतरी. अगर आप चावल उसके ब्रांड नेम को देखकर खरीदते है तो सावधान हो जाइए। छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में चावल खरीदते समय रामटेके महाराष्ट्र के नाम से रजिस्टर्ड कश्मीरी केशर सुगंधित चावल (Diffrent type of Rice) के नाम पर यहां एक बड़ा फर्जीवाड़ा का मामला प्रकाश में आया है। नवागांवखुर्द स्थित एक मिल में जगदलपुर पुलिस ने दबिश देकर जांच-पड़ताल की। इसके बाद से धमतरी के राइस मिलरों में हडक़ंप मच गया है।

छत्तीसगढ़ के इस जिले में पहली बार होगी मसालों की भी खेती

मिली जानकारी के अनुसार दोपहर करीब दो बजे जगदलपुर पुलिस जांच टीम शहर पहुंची थी। कोतवाली पुलिस और दो व्यापारियों के साथ आई टीम ने बस्तर रोड स्थित अर्जुनी थाना के सीमांत गांव नवागांवखुर्द में एक राइस मिल में जांच पड़ताल की। टीम के सदस्यों ने देखा कि महाराष्ट्र के रामटेके स्थित मेमर्स मोहन लाल शंकर लाल एग्रो प्रा. लिमिटेड के नाम से पंजीकृत मार्का कश्मीरी केशर के नाम से यहां सैकड़ों बोरा चावल पैकिंग होकर पड़ा हुआ है। जांच के बाद पुलिस ने अधिकारियों को इसके बारे में जानकारी दी।

शुगर के मरीजों के लिए अच्छी खबर, अब इस सब्जी के बीज से कंट्रोल रहेगी बीमारी

राइस मिलर सुनील अग्रवाल की शिकायत पर पुलिस की टीम ने मिल परिसर का जायजा लिया। उन्होंने बताया कि कश्मीरी केशर (Kashmiri Kesar) मार्का उनके फर्म के नाम से 12 दिसंबर 2018 को भारत सरकार के व्यापार चिन्ह रजिस्ट्री आफिस में पंजीकृत है। उनके सिवाए इस मार्का का कोई और दूसरा उपयोग नहीं कर सकता, लेकिन यहां एक मिलर द्वारा कश्मीरी केशर के नाम से चावल बेचा जा रहा है। उल्लेखनीय है कि पूर्व में धमतरी के कुछ मिलर्स के खिलाफ भी कश्मीरी केशर के नाम से चावल बेचने की शिकायत की गई थी, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।

अब अधिक दामों में नहीं बिकेगी शराब, भूपेश बघेल ने जारी किए नए आदेश

ऐसे हुए खुलासे
मेमर्स मोहनलाल शंकर लाल एग्रो प्रा. लि. के सुनील अग्रवाल और संजय अग्रवाल ने बताया कि व्यापार के सिलसिले में वे जगदलपुर आए थे। यहां प्रतिष्ठानों में जाकर देखा तो उनके मार्का की चावल नजर आया। जानकारी लेने पर धोखाधड़ी का अंदेशा हुआ। उन्होंने तत्काल इसकी लिखित शिकायत जगदलपुर पुलिस से की थी। उन्होंने व्यापार चिन्ह अधिनियम 1999 की धारा के तहत तत्काल उक्त राइस मिलर के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

छत्तीसगढ़ में जोरों से चल रहा नकली अंडे का व्यापार, नहीं होता यकीन तो पढ़े ये खबर

मीडिया के पहुंचते ही हुए रफू चक्कर
दोपहर जैसे ही बस्तर पुलिस की कार्रवाई की भनक लगी तो वहां बड़ी संख्या में मीडिया प्रतिनिधि भी कवरेज के लिए एकत्रित हो गए। जैसे ही मीडिया प्रतिनिधियों ने कवरेज शुरू की तो राइस (Rice Mill) मिल मालिक का पुत्र वहां से नौ दो ग्याराह हो गया। थोड़ी देर बाद पुलिस की पार्टी भी निकल गई।

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

LIVE अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned