पुलिस ने की कार के चैकिंग तो पकड़ाया इतना गांजा, दो युवक गिरफ्तार

गांजा तस्करी करने वाले दो तस्करों ने विशेष न्यायालय ने 10-10 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है।

By: Deepak Sahu

Published: 02 Mar 2019, 10:00 PM IST

धमतरी. स्वीप्ट डिजायर कार में गांजा तस्करी करने वाले दो तस्करों ने विशेष न्यायालय ने 10-10 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही अर्थदंड की राशि अदा नहीं करने पर उन्हें एक-एक साल अतिरिक्त सजा भुगतनी होगी।

यह मामला अर्जुनी थाना क्षेत्र का है। न्यायालयीन सूत्रों के मुताबिक 29 मार्च 2017 को क्राइम ब्रांच से मुखबिर को सूचना मिली थी कि बस्तर की ओर से एक कार में बड़ी मात्रा में गांजा तस्करी हो रही है। सूचना पाकर पुलिस अलर्ट हो गई और बस्तर रोड में नाकेबंदी कर विशेष सर्चिंग अभियान छेड़ दी। इस बीच रात करीब 9 बजे जगदलपुर की ओर से स्वीप्ट डिजायर कार क्रमांक यूपी 81 एएन-5600 बड़ी तेज से आया।

किसी तरह सेहराडबरी के पास पुलिस ने घेराबंदी कर कार को रोकने में सफल हो गए। कार में बैठे युवक दीपक शर्मा एवं जितेन्द्र सिंह मथुरा (उ.प्र.)को नीचे उतार कर वाहन की तलाशी ली गई, जिसमें 21 पैकेटों में पॉलीथिन में बंधा हुआ गांजा मिला। वजन कराने पर यह गांजा 109 किलो 520 ग्राम था। तत्काल दोनों युवकों को धारा 20-बी(२)(सी) एनडीपीएस एक्ट के तहत गिरफ्तार कर लिया। विवेचना के बाद केस डायरी न्यायालय में पेश किया, जहां मामले की अंतिम सुनवाई विशेष न्यायालय में हुई।

सजा एक नजर में
न्यायाधीश सुधीर कुमार ने सारे सबूतों को देखने और गवाहों को सुनने के बाद आरोपी दीपक शर्मा और जितेन्द्र सिंह पर दोष सिद्ध पाया। पश्चात दोनों को एनडीपीएस एक्ट के तहत 10-10 साल सश्रम कारावास की सजा सुनाई। साथ ही 2-2 लाख रुपए अर्थदंड से भी दंडित किया। अर्थदंड की राशि अदा नहीं करने पर दोनों को एक-एक साल सश्रम कारावास भुगतनी होगी।

Show More
Deepak Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned