ग्राम पंचायत गंगरेल को प्रस्तावित कुकरेल तहसील में जोड़ने के विरोध में ग्रामीणों ने किया चक्काजाम

- ग्राम पंचायत गंगरेल को प्रस्तावित कुकरेल तहसील में जोड़ने के विरोध में ग्रामीणों ने किया चक्काजाम
- ग्राम मरादेव केनाल के पास और डांगीमाचा में बड़ी संख्या में ग्रामीण सड़क को ब्लॉक कर बैठे

By: Ashish Gupta

Published: 22 Jan 2021, 03:25 PM IST

Dhamtari, Dhamtari, Chhattisgarh, India

धमतरी. ग्राम पंचायत गंगरेल को प्रस्तावित कुकरेल तहसील में जोड़ने के विरोध में ग्रामीणों ने चक्काजाम कर दिया है। ग्राम मरादेव केनाल के पास और डांगीमाचा में बड़ी संख्या में ग्रामीण सड़क को ब्लॉक कर बैठ गए हैं और किसी भी पर्यटकों को गंगरेल आने जाने नहीं दिया जा रहा है ।

उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायत गंगरेल धमतरी जिले में नए बनने जा रही कुकरेल तहसील में जुड़ने से इनकार कर दिया है। लगातार इसका विरोध कर रहे हैं लेकिन जिला प्रशासन की ओर से कोई ठोस निर्णय नहीं लिया जा सका। इससे नाराज होकर ग्रामवासियों ने शुक्रवार को सुबह 5 बजे सड़क में उतर कर आंदोलन शुरू कर दिया।

ठंडी हवाओं ने फिर बदला मौसम का मिजाज, 24 घंटे में दो डिग्री तक गिरेगा पारा, बढ़ेगी ठंड

सरपंच रमेश काड़े की अगुवाई में प्रसिद्ध पर्यटन गंगरेल बांध से जुड़ने वाले तीनों मार्गों में को ब्लॉक कर चक्काजाम कर दिया है। उनका कहना है कि जब तक उनकी मांगे पूरी नहीं की जाती वह आंदोलन से हटने वाले नहीं हैं। गौरतलब है कि ग्रामीणों के इस आंदोलन से जिला प्रशासन सकते में आ गए हैं। जिला पंचायत के सीईओ मयंक चतुर्वेदी एसडीएम मनीष मिश्रा तहसीलदार और टीआई मौके पर पहुंचकर आंदोलनकारियों को समझाते रहे। यहां तक कि एसडीएम ने उन्हें लिखित आश्वासन भी दिया इसके बावजूद ग्रामवासी मानने को तैयार नहीं है।

उनका कहना है कि जब तक कलेक्टर उन्हें आश्वासन नहीं देते वे चक्काजाम आंदोलन को खत्म नहीं करेंगे। शनिवार और रविवार को भी उनका आंदोलन जारी रहेगा। उधर छत्तीसगढ़ के इस मिनी गोवा गंगरेल बांध सैर सपाटा के लिए आने वाले सैलानियों को चक्काजाम आंदोलन से काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

धान के मुद्दे पर सियासत जारी: कांग्रेस ने की सरकार को धान बेचने वाले 575 भाजपा नेताओं की सूची जारी

किसी भी सैलानी को गंगरेल बांध में आने नहीं दिया जा रहा है। कई पर्यटक मन्नत का बकरा पूजा अर्चना के लिए लेकर भी पहुंचे है जिन्हें मायूस होकर लौटना पड़ा। आंदोलनकारियों में अजय नेताम आशा बाई नेताम उमेश कुमार रीना साहू संतोष नेताम ममता सिन्हा लता सिन्हा दशरी बाई रोशन कुमार समेत बड़ी संख्या में ग्रामवासी शामिल है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned