दादा की जगह सरकारी नौकरी लगना चाहता था पोता, सुपारी देकर करवा दी हत्या, यूं हुआ खुलासा

सरकारी नौकरी के लिए मेहनत का रास्ता अपनाया जाए तो ही सही है (Grandson Killed Grandfather For Government Job In Dhanbad) (Jharkhand News) (Dhanbad News)...

 

By: Prateek

Published: 24 Jun 2020, 06:29 PM IST

(धनबाद): हर युवा की चाहत होती है कि वह अच्छी सरकारी नौकरी प्राप्त करे जिससे उसका भविष्य उज्जवल बने। इसके लिए मेहनत का रास्ता अपनाया जाए तो ही सही है। लेकिन झारखंड के धनबाद जिले में एक युवक सरकारी नौकरी की चाहत में इतना अंधा हो गया कि उसने सुपानी किलर की मदद से दादा की हत्या कर दी। पुलिस ने इस मामले में आरोपी पोते समेत तीन लोगों को इस मामले में गिरफ्तार कर लिया है।

यह भी पढ़ें: Petrol Diesel के दामों में लगातर बढोतरी पर Rahul Gandhi का तंज, 'तेल की कीमतें सरकार ने Unlock कर दी'

मिली जानकारी के अनुसार धनबाद जिले के गुम्‍मा निवासी नरेश नोनिया की बीते दिनों हत्या हो गई थी। वह कुमारबुधी कोलियरी में ईसीएल कर्मी थे। 12 दिनों की जांच पड़ताल के बाद पुलिस ने इस हत्या की गुत्थी को सुलझा लिया। नरेश का पोता अनिल चौहान अनुकंपा स्कीम के तहत अपने दादा की जगह नौकरी चाहता था। इसके लिए उसने दादा को रास्ते से हटाने का प्लान बना लिया था। चिरकुंडा पुलिस ने अनिल चौहान और दो सुपारी किलर इम्तियाज अंसारी और शेख नवाब को गिरफ्तार कर लिया है।

सह भी पढ़ें: LAC Dispute : एमएनएम प्रमुख कमल हासन ने केंद्र को घेरा, कहा – पीएम मोदी से सवाल पूछना राष्ट्र विरोधी नहीं

शक के आधार पर पुलिस ने अनिल को हिरासत में लिया। शुरुआत में वह गोल-गोल बाते कर रहा था। लेकिन सख्ती से पूछने पर उसने स्वीकार कर लिया कि उसने दादा की सुपारी दी थी। इसके बाद अनिल अपने दादा नरेश नोनिया को दफ्तर छोड़ने के लिए अपनी मोटरसाइकिल पर बैठाकर ले गया। वह अपने दादा को ऑफिस में छोड़कर वहां से चल दिया। इसके बाद वह गुम्‍मा से दोनों सुपारी किलर को लेकर दादा के दफ्तर पहुंच गया। यहां दोनों किलर ने दादा नरेश की हत्या कर दी। तीनों आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल लिया है। पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

झारखंड की ताजा ख़बरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें...

Prateek Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned