अटल एक नाम नहीं,बल्कि राष्ट्रीय विचारधारा है-मुख्यमंत्री

अटल एक नाम नहीं,बल्कि राष्ट्रीय विचारधारा है-मुख्यमंत्री

Prateek Saini | Publish: Sep, 16 2018 08:06:47 PM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 08:06:48 PM (IST) Ranchi, Jharkhand, India

मुख्यमंत्री ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय राजनीति में सभी के प्रिय रहे

(रांची): पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर एक महीना पूरा होने पर रविवार को राज्य के सभी विधानसभा क्षेत्रों में काव्यांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस मौके पर अटल बिहारी वाजपेयी की कविता का पाठ किया गया। अटल बिहारी वाजपेयी के सम्मान में राजधानी रांची के हरमू बाईपास रोड स्थित दिबंगर जैन भवन में आयोजित काव्यांजलि कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि अटल एक नाम नहीं, बल्कि राष्ट्रीय विचारधारा थे।


उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी केवल एक व्यक्ति नहीं थे। वे सांस्कृतिक राष्ट्रवाद की विचारधारा के प्रतीक हैं। वे पत्रकार, संवेदनशील कवि, अपराजेय वक्ता और विचारवान लेखक थे। उन्हें मां सरस्वती का आशीर्वाद प्राप्त था। उन्होंने अपना जीवन मां भारती की सेवा में लगाया।


उन्होंने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय राजनीति में सभी के प्रिय रहे। उन्होंने अपने वचन और कर्म से सभी के हृदय में अपनी पहचान बनायी। आज पूरे देश में एक साथ 4000 स्थानों पर काव्यांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 23 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रांची आ रहे हैं। इस दिन दुनिया की सबसे बड़ी बीमा योजना आयुष्मान भारत की शुरुआत की जायेगी। इससे राज्य के 68 लाख में से 57 लाख गरीब परिवारों को पांच लाख रुपये तक की स्वास्थ्य बीमा का निशुल्क लाभ दिया जायेगा। इस योजना के लागू होने के बाद गरीब परिवारों को अब इलाज के लिए अपने घर, जमीन, जेवर आदि नहीं बेचने होंगे। उन्होंने राज्य की जनता से इस कार्यक्रम में उत्साह के साथ भाग लेने का आह्वान किया।


कार्यक्रम में यह लोग रहे मौजूद

कार्यक्रम में कुमार ब्रजेंद्र व अन्य कवियों ने काव्य पाठ किया। इस दौरान नगर विकास मंत्री सीपी सिंह झारखंड खादी बोर्ड के अध्यक्ष संजय सेठ, अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष कमाल खान की उपस्थिति के साथ बड़ी संख्या में साहित्यिक अभिरुचि रखने वाले बुद्धिजीवियों की उपस्थिति महत्वपूर्ण थी। राज्य के अन्य जिलों में भी काव्यांजलि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। भाजपा की ओर से घोषणा की गयी है कि काव्यांजलि में चयनित एक कवि को पांच लाख रुपये देकर सम्मानित किया जाएगा।

Ad Block is Banned