ढाई घंटे घुमने के बाद बोली क्लिंटन... हाउ अमेजिंग मांडू, भारतीय कल्चर को समझने आई हूं

चाकचौबंद इंतजाम के बीच अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री ने समझा मांडू का इतिहास

खास-खास
* सुरक्षा के लिहाज से अमेरिकी सिक्योरिटी एजेंसी बार-बार बदलती रही प्लान
* सुरक्षा में रहे अमेरिकी सिक्योरिटी एजेंसी के ६ अधिकारी
* कार्केट में रही १२ गाडिय़ां
* क्लिंटन की गाड़ी के आगे चल रही थी चार, पीछे ७ गाडिय़ां
* आते समय अमेरिकी एंबेसी की 26-सीसी-847 व जाते समय 26-सीसी-848 नंबर की गाड़ी में सवार थी क्लिंटन
* क्लिंटन के साथ 3 मेहमान आए थे मांडू
* जामी मस्जिद से होशंगशाह की ओर जाते समय सीढ़ीयों पर लडख़ड़ाई क्लिंटन को सुरक्षा कर्मियों ने संभाला
* दोपहर 12 से 2.25 बजे तक मांडू में रही क्लिंटन
* सुबह 10 बजे पहुंचना था मांडू
* अमेरिकी एंबेसी की दो गाडिय़ां रही साथ
* सुरक्षा के लिहाज से एक जैसी दो इनोवा कार कार्केट में चल रही थी आगे-पीछे


अतुल पोरवाल/धीरज चौधरी
धार/मांडू.


ढाई घंटे तक मांडू के इतिहास को बारिकी से समझने के बाद अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने कहा कि यह उनका कल्चर एज्युकेशनल टूर था। मांडू के बारे में उन्होंने कहा कि यह अप्रतिम पर्यटक स्थल है, जहां वे दोबारा आना चाहेंगी। सोमवार को सुबह 10 बजे मांडू आने वाली श्रीमति क्लिंटन दोपहर 12 बजे पहुंची।
प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि अमेरकी सुरक्षा एजेंसी काफी सख्त होती है, जो सुरक्षा के लिहाज से कुछ बताए बगैर प्लान बदल देती है। बता दें कि जाते समय रूट बदलकर जाने की इच्छा जताते हुए अमेरिकी एजेंसी ने तारापुर घाट के रास्ते महेश्वर लौटने का प्लान बनाया। एनवक्त पर फिर प्लान बदलते हुए वे लुन्हेरा फाटे से गुजरी रोड पर निकल गए। बार-बार प्लान बदलने से सुरक्षा इंतजाम में लगे पुलिस व प्रशासन के अधिकारी गफलाते रहे। प्रोटोकाल के लिहाज से क्लिंटन की अगवानी में एडीएम डीके नागेंद्र व एएसपी डॉ. राय सिंह नरवरिया सुबह से ही मांडू पहुंच गए थे, जबकि एसडीएम एसएल सिंघाड़े, तहसीलदार एसआर कनासे पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था में लगे थे। इधर कुक्षी की एसडीओपी प्रियंका डूडवे महेश्वर से मांडू व मांडू से महेश्वर तक क्लिंटन के साथ रही।

खस्ता सडक़ों पर उछली क्लिंटन

मप्र के मुख्यमंत्री अमेरिका भ्रमण कर लौटे तो उन्होंने वहां की सडक़ों को खस्ताहाल बताते हुए प्रदेश की सडक़ों को बेहतर बताया, लेकिन लुन्हेरा से नालछा तक खस्ताहाल सडक़ पर उछलने के बावजूद अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलेरी क्लिंटन ने एक शब्द नहीं कहा। उल्टा मांडू नगरी की बदहाल व्यवस्था के बावजूद वे पर्यटन नगरी की तारीफ कर गई। बता दें कि सोमवार को क्लिंटन मांडू भ्रमण पर आई थी, जो करीब ढाई घंटे रुकने के बाद महेश्वर लौट गई। इस बीच उन्होंने शाही परिसर(जहाज महल), जामी मस्जिद, होशंगशाह का मकबरा देखने के बाद खाई किनारे बने तारापुर दरवाजे के पास टेंट लगाकर लंच किया। प्रशासन ने प्रोटोकाल के लिहाज से क्लिंटन के लंच का इंतजाम किया था, लेकिन उन्होंने अपने साथ रखा खाना ही खाया।

जाते-जाते सेल्फी
तारापुर दरवाजे से लंच लेकर निकली क्लिंटन काफी खुश थी। उन्होनें सुरक्षा में तैनाम पुलिस जवानों के साथ सेल्फी ली और उनके साथ फोटो भी खिंचवाए। इधर एसडीएम एसएल सिंघाड़े, तहसीलदार एसआर कनासे से चर्चा करते हुए इनके साथ भी फोटो खिंचवाए।

अर्जुन रिछारिया Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned